Rahul Dravid to appear before BCCI ethics officer on thursday
Rahul Dravid (File Photo) © Getty Images

राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के मुखिया राहुल द्रविड़ और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के कर्मचारी मयंक पारिख को ‘हितों के टकराव’ के मुद्दों के संबंध में बीसीसीआई के एथिक्स अधिकारी डी.के. जैन के सामने गुरुवार को पेश होना है।

पढ़ें:- ऑस्‍ट्रेलियाई बल्‍लेबाज ट्रेविस हेड को मिला बड़ा कांट्रैक्‍ट

मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ (एमपीसीए) के आजीवन सदस्य संजीव गुप्ता ने भारतीय टीम के पूर्व कप्तान को एनसीए का अध्यक्ष बनाए जाने पर हितों के टकराव का मुद्दा उठाया था और कहा था कि द्रविड़ इंडिया सीमेंट्स के कर्मचारी हैं।

इसके जवाब में प्रशासकों की समिति (सीओए) के अध्यक्ष विनोद राय ने कहा था कि द्रविड़ ने उस पद से इस्तीफा दे दिया है, लेकिन सीओए के अन्य सदस्य ने कहा था कि द्रविड़ ने कंपनी से छुट्टी ली है।

यह देखना दिलचस्प होगा कि जैन इस मुद्दे को किस तरह से लेते हैं और बीसीसीआई किस तरह से इस मुद्दे का बचाव करती है।

पढ़ें:- पेसर जसप्रीत बुमराह बोले-चोट से उबरकर मजबूत वापसी करूंगा

वहीं, पारिख कई ऐसे क्लबों से जुड़े हैं जिनके पास मुंबई क्रिकेट संघ (एमसीए) में वोट करने का अधिकार है, साथ ही वह बीसीसीआई के कर्मचारी भी हैं। यही स्थिति दिवगांत एम.वी. श्रीधर के साथ थी जिन्हें महा प्रबंधक (क्रिकेट संचालन) के पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

जैन लोढ़ा समिति कि सिफारिशों और सर्वोच्च अदालत के फैसलों को लागू करने को लेकर बेहद गंभीर हैं। उन्होंने हाल ही में पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को भी अलग-अलग पदों पर बने रहने से रोक दिया था।

जैन ने हालांकि गांगुली को संदेह का लाभ दिया था लेकिन साथ ही कहा था कि उन्हें एक बार में से ज्यादा पद पर नहीं बने रहना चाहिए।