© Getty Images
© Getty Images

रणजी ट्रॉफी के दूसरे मुकाबले में टीम इंडिया के दो दिग्गज खिलाड़ी फेल रहे। तमिलनाडु के लिए खेल रहे आर अश्विन त्रिपुरा जैसी कमजोर टीम के खिलाफ सिर्फ 1 ही विकेट ले सके वहीं गौतम गंभीर ने रेलवे के खिलाफ सिर्फ दो ही रन बनाए। सबसे पहले बात त्रिपुरा और तमिलनाडु के मुकाबले की करें तो मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज स्मित पटेल (99) भले ही एक रन से शतक से चूक गये लेकिन उनके और यशपाल सिंह (96) के अर्धशतक की बदौलत त्रिपुरा ने रणजी ट्राफी ग्रुप सी के शुरूआती दिन स्टंप तक तमिलनाडु के खिलाफ पहली पारी में सात विकेट गंवाकर 244 रन बना लिये।

तमिलनाडु ने टॉस जीतकर फील्डिंग का फैसला किया, जिसके बाद त्रिपुरा की शुरूआत अच्छी नहीं हुई। उसने पहला विकेट एक भी रन जोड़े गंवा दिया और 41 रन पर तीन विकेट गिर चुके थे। फिर स्मित पटेल और यशपाल सिंह ने जिम्मेदारी से खेलते हुए टीम को इस स्कोर तक पहुंचाया। पटेल ने 177 गेंद का सामना करते हुए अपनी पारी में 12 चौके और तीन छक्के जमाये। यशपाल ने भी 13 चौके और एक छक्के की बदौलत 96 रन बनाये, जिसके लिये उन्होंने 190 गेंदों का सामना किया। वनडे सीरीज के लिए द.अफ्रीका और बांग्लादेश की टीमों में ‘मैच विनर’ की एंट्री!

दिल्ली बनाम रेलवे

नीतीश राणा ( 89 ) और हिम्मत सिंह की शतकीय साझेदारी की मदद से दिल्ली ने रेलवे के खिलाफ रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए के मैच में शुरूआती झटकों से उबरते हुए छह विकेट पर 316 रन बनाये । टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने वाली दिल्ली की शुरूआत अच्छी नहीं रही और उसके शुरूआती तीन विकेट आठवें ओवर में ही गिर गए जब स्कोर बोर्ड पर 34 रन टंगे थे । गौतम गंभीर महज 2 रन बनाकर पैवेलियन लौट गए। हालांकि इसके बाद राणा और हिम्मत सिंह ने चौथे विकेट के लिये 109 रन की साझेदारी की।