Ravi Shastri: Virat Kohli is the boss, We are there to give suggestion
विराट कोहली-रवि शास्त्री © AFP (File Photo)

पूर्व क्रिकेटर अनिल कुंबले को कप्तान विराट कोहली के साथ मतभेद के चलते भारतीय टीम के कोच पद से इस्तीफा देना पड़ा था। खबर थी कि कोहली कुंबले के काम करने के तरीके से खुश नहीं थे। कुंबले के इस्तीफे के बाद ये मुद्दा काफी समय तक चर्चा में रहा था कि क्या टीम में कप्तान की भूमिका ही सबसे बड़ी होती है। अब टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री के हालिया बयान ने कुछ हद तक स्थिति को साफ कर दिया है। शास्त्री का कहना है कि कप्तान ही टीम का बॉस होता है, कोच और सपोर्ट स्टाफ उसे केवल सलाह दे सकते हैं। आखिरी फैसला कप्तान का ही होगा। टाइम्स ऑफ इंडिया ने शास्त्री के हवाले से लिखा, “हमारे बीच बात होती है, देखिए आखिर में कप्तान ही टीम का बॉस होता है। वो हमसे सलाह मांग सकता है। इसका ये मतलब नहीं कि उसे वो सलाह माननी ही पड़ेगी क्योंकि मैं चाहता हूं कि उसका अपना दिमाग हो और वो फैसला करे। हम सपोर्ट स्टाफ में उसे सलाह देने के लिए हैं जो उसकी मदद कर सकते हैं, इसलिए हमारे बीच बातचीत होती है।”

शास्त्री ने बताया कि उनके और कप्तान के बीच अच्छा समीकरण है। इस बारे में शास्त्री ने कहा, “हमारे बीच बढ़िया समीकरण है। हमारी शख्सियत काफी हद तक एक जैसी है। हमारे रिश्ते में भरोसा है। हम दोनों ही मजबूत दिमाग वाले शख्स हैं और हर कीमत पर जीतने के लिए खेलते हैं। हम मैदान पर टाइम पास करने नहीं जाते हैं। ये टीम मैदान पर केवल नंबर पूरे करने नहीं जाती है। हम लड़ना चाहते हैं, खेल को आगे ले जाना चाहते हैं। उसकी मानसिकता भी ऐसी ही है और वो सामने साफ साफ बोलने वाला शख्स है।” कोच का कहना है कि काफी समय से कप्तानी करते हुए कोहली को अंदर परिपक्वता आई है। उनका मानना है कि आने वाले 7-8 सालों में वो और बेहतर बनेंगे।

कटक टी20, प्रिव्यू: युवा खिलाड़ियों को परखेगा भारत, वनडे सीरीज का बदला लेने उतरेगी श्रीलंका
कटक टी20, प्रिव्यू: युवा खिलाड़ियों को परखेगा भारत, वनडे सीरीज का बदला लेने उतरेगी श्रीलंका

उन्होंने कहा, “उनकी शख्सियत में एक शांत स्वभाव आया है जो कि टीम के लिए अच्छा है। चूंकि वो कप्तान है, आप चाहते हैं कि वो हमेशा साफ बात करे। हम चाहते हैं कि वो थोड़ा सख्त भी रहे लेकिन साथ ही साथ वो टीम इंडिया का कप्तान भी है।” शास्त्री ने कहा कि मौजूदा टीम इंडिया में आत्मविश्वास के साथ साथ जीत की भूख है जो इसे बाकी टीमों से बेहतर बनाती है। शास्त्री ने आगे कहा, “वो भूखे हैं और वो जानते हैं कि उन्हें विदेशों में अच्छा प्रदर्शन करना है और उन्होंने पहले भी ऐसा किया है। उन्होंने सफलता का स्वाद चखा है। उन्हें पता है कि मैदान पर जाकर जीतना कैसा होता है। उदाहरण के तौर पर इंग्लैंड को 24 साल बाद वनडे सीरीज में हराना, ऑस्ट्रेलिया को टी20 सीरीज में क्लीन स्वीप करना और श्रीलंका को लगातार हराना, इसके साथ ही घरेलू मैदान पर तो टीम का शानदार रिकॉर्ड है ही।”

मौजूदा टीम इंडिया के भविष्य के बारे में बात करते हुए शास्त्री ने कहा, “आप अगर विश्व कप को देखें तो उन्होंने हमेशा टूर्नामेंट पूरा किया है, वो विजेता टीमों से सेमीफाइनल में हारे हैं, उन्होंने एशिया कप जीता है। वो जानते हैं कि वो कहां है और खिलाड़ियों के अंदर वहीं है जो 2014 की टीम में था। मैं उन्हें अगले चार-पांच साल तक एक साथ देखता हूं। इससे बड़ा फर्क पड़ता है। अगले तीन-चार सालों में ये टीम बड़े लक्ष्य हासिल कर सकती है।” टीम इंडिया आज पहले टी20 मैच के लिए कटक में श्रीलंका से भिड़ेगी।