Ravichandran Ashwin is no longer the go-to man on overseas tour, feels Harbhajan Singh
रविचंद्रन अश्विन © Getty Images

साल 2016 में वेस्टइंडीज दौरे पर प्लेयर ऑफ द सीरीज रहे रविचंद्रन अश्विन को एंटीगा टेस्ट के लिए भारतीय प्लेइंग इलेवन में जगह ना मिलने से सुनील गावस्कर और सौरव गांगुली जैसे पूर्व दिग्गज हैरान हैं लेकिन सीनियर स्पिनर हरभजन सिंह इस फैसले को तार्किक मानते हैं। उनका मानना है कि अश्विन अब विदेशी दौरों के लिए भारत के प्रमुख स्पिनर नहीं हैं और टीम मैनेजमेंट इस बात को समझता है।

द टेलीग्राफ से बातचीत में हरभजन ने कहा, “मेरा अंदाजा है कि टीम मैनेजमेंट को लगता है कि जहां विदेशी दौरों की बात आती है, अब अश्विन भारत के प्रमुख स्पिनर नहीं हैं। अगर आप देखें तो ऑस्ट्रेलिया दौरे पर, वो पहले टेस्ट के बाद चोटिल हो गया था लेकिन टीम मैनेजमेंट ने उसे स्क्वाड में बरकरार रखा था, इस उम्मीद से की वो ठीक हो जाएगा, जो कि नहीं हुआ। इस तरह की चीजें प्लेइंग इलेवन चुनने से पहले मायने रखती हैं। भूले नहीं, एंटीगा टेस्ट जनवरी में सिडनी टेस्ट के बाद से हमारा पहला टेस्ट मैच है।”

पिछले कुछ सालों में विदेशों में अश्विन के प्रदर्शन पर बात करते हुए उन्होंने कहा, “देखें तो ऐसे कई मौके आए हैं जब वो विदेशी हालातों में बुरी तरह फेल हुआ है। उदाहरण के लिए, 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ साउथम्पटन में खेले गए चौथे टेस्ट में, मोइन अली ने 9 विकेट निकाले थे और अश्विन को तीन ही विकेट मिले थे। दोनों ही फिंगर स्पिनर्स हैं लेकिन इतने अलग प्रदर्शन।”

अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में ना बदल पाने से निराश हैं रोस्टन चेज

हालांकि हरभजन अश्विन की जगह रविंद्र जडेजा को जगह मिलने से हैरान हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि कुलदीप यादव को मौका मिलना चाहिए थे। उन्होंने कहा, “ये आर्श्चजनक है। मुझे लगा था कि कुलदीप होगा। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी मैच में पांच विकेट हॉल लेने के बाद, मेरा ये मत था कि वो हमारा नंबर एक स्पिनर है। लेकिन जडेजा ऐसा गेंदबाज है जो ज्यादा रन नहीं देता। मुझे यकीन है कि इस आंकड़े ने (चयन में) भूमिका निभाई होगा। और हम सभी को पता है कि जडेजा पूर्ण बल्लेबाज है।”

अश्विन पर कुलदीप को प्रायिकता देने के अपने मत तो हरभजन ‘रिस्ट स्पिनर, फिंगर स्पिनर से बेहतर हैं’ मत पर आधारित नहीं मानते हैं। उन्होंने इसे गलत धारणा बताया। भारतीय गेंदबाज ने कहा, “आजकल ऐसी धारणा बन गई है कि फिंगर स्पिनर्स को पढ़ना आसान हो गया है। क्रिकेट में हम 100 साल पहले बल्लेबाजों को स्पिन, फॉरवर्ड शॉर्ट लेग, यहां तक कि सिली प्वाइंट पर आउट होते देखते थे। क्या अब नहीं देखते? ये केवल धारणा है। एक अच्छा स्पिनर, अच्छा स्पिनर होता है….चाहे फिंगर हो या रिस्ट।”

खुशी है विराट कोहली के भरोसे का ऋण अच्छे प्रदर्शन से चुका पाया: रविंद्र जडेजा

उन्होंने आगे कहा, “मैं आपको बता दूं ये एक आम धारणा है कि फिंगर स्पिनर बाएं हाथ के बल्लेबाजों के खिलाफ अच्छा करते हैं। मेरे रिकॉर्ड को देखें, मैं दाएं हाथ के बल्लेबाजों के खिलाफ ज्यादा सफल रहा हूं। स्टीव वॉ, रिकी पॉन्टिंग को मैंने कई बार आउट किया है और वो ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने 160 टेस्ट मैच खेले हैं।”

हरभजन से जब मौजूदा समय के सबसे अच्छे स्पिन गेंदबाज के बारे में पूछा गया तो उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर नाथन लियोन का नाम लिया। उन्होंने कहा, “वो पिछले कुछ सालों से सर्वश्रेष्ठ है। अच्छी निरंतरता के साथ अद्भुत स्पिनर।”