Rohit Shamra: Was thinking of Hardik Pandya for final over, but backed Lasith Malinga due to experience
लसिथ मलिंगा, हार्दिक पांड्या (BCCI)

चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस के बीच खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें सीजन के रोमांचक फाइनल मैच में आखिरी गेंद तक दर्शकों की सांसे रुकी रही। 150 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई जीत के बेहद करीब पहुंच गई थी। आखिरी ओवर में सीएसके को जीत के लिए 9 रनों की जरूरत थी और मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा ने गेंद सीनियर गेंदबाज लसिथ मलिंगा को थमाई।

मलिंगा ने ओवर में केवल सात रन दिए और एक विकेट (वाटसन का विकेट रन आउट था) निकाला, जिसकी मदद से मुंबई ने एक रन से मैच जीता। हालांकि 20वें ओवर के लिए मलिंगा कप्तान की पहली पसंद नहीं थे।

मैच के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने खुलासा किया कि वो पहले आखिरी ओवर ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या को देना चाहते थे लेकिन मलिंगा के अनुभव ने उन्हें इस सीनियर खिलाड़ी का रुख करने पर मजबूर किया।

मुंबई ने रिकॉर्ड चौथी बार खिताब जीत रचा इतिहास

विजेता कप्तान ने कहा, “मलिंगा चैंपियन है, वो हमारे लिए सालों से ये करता आ रहा है। मैं आखिरी ओवर के लिए हार्दिक के बारे में सोच रहा था लेकिन मैं किसी ऐसे खिलाड़ी को चाहता था जो कि इस तरह का स्थिति में पहले भी रह चुका हो और मलिंगा ने ऐसा कई बार किया है।”

रोहित ने जीत का श्रेय सभी खिलाड़ियों और पूरी सपोर्ट स्टाफ टीम को दिया। उन्होंने कहा, “पूरे टूर्नामेंट में हमने कुछ अच्छा क्रिकेट खेला जो कि हमारे शीर्ष पर पहुंचने का कारण है। हमने टूर्नामेंट को दो भागों में बांटा, बतौर टीम हमने जो भी किया उसका हमें ईनाम मिला। हमारे पास 25 खिलाड़ियों को स्क्वाड है, हर कोई किसी ना किसी स्टेज पर आगे आया और काम पूरा किया। सपोर्ट स्टाफ भी।”

आईपीएल इतिहास के सबसे सफल विकेटकीपर बने धोनी

कप्तान ने आगे कहा, “हमारे गेंदबाजों ने खासतौर पर बेहद शानदार थे, अलग अलग स्टेज पर गेंदबाज आगे आए और हमें खेल में वापस लाए। हर गेंदबाज जिसे मौका मिला, आगे आया और जिम्मेदारी ली और इसी का हमें ईनाम मिला।”

चौथा आईपीएल खिताब जीत टूर्नामेंट के सबसे सफल कप्तान बने रोहित ने अपनी सफलता का श्रेय लगातार सीखने की कला और अच्छी टीम को दिया। उन्होंने कहा, “मैं हर मैच में सीख रहा हूं, हर बार जब मैं मैदान पर उतरता हूं। मुझे टीम को भी श्रेय देना होगा, ये खिलाड़ियों पर है कि वो आगे आए वर्ना कप्तान बेवकूफ दिखता है। खिलाड़ियों को श्रेय जाता है।”