Sandeep Patil: Contracts, endosements don’t allow Indian players to take early retirement like Alastair Cook
Alastair Cook © Getty Images

इंग्‍लैंड के लिए टेस्‍ट क्रिकेट में सबसे ज्‍यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी एलिस्‍टर कुक 33 साल की उम्र में अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट से रिटायरमेंट ले रहे हैं। ओवल में भारत और इंग्‍लैंड के बीच टेस्‍ट सीरीज का आखिरी मुकाबला कुक के अंतरराष्‍ट्रीय करियर का भी आखिरी मुकाबला होने वाला है। उन्‍होंने सीरीज के चौथे मुकाबले के बाद अचानक टेस्‍ट क्रिकेट से रिटायरमेंट की घोषणा कर दी।

भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी और मुख्‍य चयनकर्ता रह चुके संदीप पाटिल का मानना है कि भारतीय क्रिकेट में एक खिलाड़ी के लिए रिटायरमेंट लेना इतना आसान काम नहीं है। एक खिलाड़ी को उसके कांट्रेक्‍ट और इंडोर्समेंट इस तरह बांध कर रखते हैं कि वो चाह कर भी इतनी आसानी से रिटायरमेंट नहीं ले पाता है।

संदीप पाटिल ने कहा, “खिलाड़ी के लिए एक तरफ उनका पैसा और दूसरी तरफ उनकी फिटनेस आड़े आ जाती है। अगर खिलाड़ी फिट है और टीम के लिए खेल सकता है तो उसकी उम्र टीम में होने का मापदंड नहीं हो सकती। महेंद्र सिंह धोनी इसका अच्‍छा उदाहरण हैं। उन्‍होंने अचानक टेस्‍ट से संन्‍यास लेने का निर्णय ले लिया था। उस वक्‍त  मुख्‍य चयनकर्ता होने के नाते मेरे लिए ये काफी चौकाने वाली खबर थी।”

संदीप पाटिल ने कहा, “  मैंने नेशनल क्रिकेट अकादमी में ऐसे खिलाड़ियों को देखा है जो आईपीएल खेलने के लिए फिट होना चाहते हैं, घरेलू क्रिकेट खेलना वो पसंद नहीं करते। ये पूरी तरह गलत प्रथा है। मुझे लगता है कि इंडोर्समेंट, कांट्रेक्‍ट और कुछ ज्‍यादा कमाने की चाह उन्‍हें खेल से दूर लेकर जा रही है। मैं इसके लिए खिलाड़ियों को ज्‍यादा जिम्‍मेदार नहीं मानता हूं क्‍योंकि अब ऐसा समय आ गया है कि क्रिकेटर्स का मौजूदा करियर हर एजेंसी देखकर ही उन्‍हें इंडोर्समेंट देती हैं।”

ऐसी स्थिति में जब खिलाड़ी को लगता है कि वो काफी क्रिकेट खेल चुका है। उनके कांट्रेक्‍ट और बाकी चीजें उन्‍हें रिटायरमेंट का निर्णय लेने से रोकती हैं। संदीप पाटिल ने कहा, “मैं वीवीएस लक्ष्‍मण जैसे खिलाड़ी को भी जानता हूं। कमर में दर्द के कारण वो क्रिकेट नहीं खेल पा रहा था। एनसीए में रिहैब के दौरान उन्‍होंने रिटायरमेंट का निर्णय लिया।”