शाहबाज ने झारखंड के लिए रणजी ट्रॉफी में अब तक खेले 9 मैचों में 51 विकेट लिए हैं। Image Courtesy: Twitter
शाहबाज ने झारखंड के लिए रणजी ट्रॉफी में अब तक खेले 9 मैचों में 51 विकेट लिए हैं। Image Courtesy: Twitter

रणजी ट्रॉफी 2016-17 में अब मुकाबला अंतिम पड़ाव तक आ गया है। जहां एक तरफ सेमीफाइनल में पहुंची चारों टीमें खिताब जीतने के लिए पूरा जोर लगा रही है वहीं युवा खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर भारतीय टीम के चयनकर्ता भी लगातार नज़र बनाए हुए हैं। इस साल रणजी ट्रॉफी में कई बेहतरीन प्रदर्शन देखने को मिले जिसमें से कई खिलाड़ी भविष्य में टीम इंडिया में जगह बना सकते हैं। वहीं एक नाम ऐसा है जो जल्द ही भारतीय टीम के लिए खेलता दिख सकता है। सेमीफाइनल में जगह बना चुकी झारखंड टीम के सबसे सफल गेंदबाज शाहबाज नदीम को इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज के लिए जगह दी जा सकती है। ये भी पढ़ें: साल 2016 में भारतीय गेंदबाजी के पांच सबसे यादगार पल

शाहबाज नदीम बाएं हाथ के स्पिनर हैं जिन्होंने क्वार्टर फाइनल मैच में बेहतरीन प्रदर्शन कर अपनी टीम को जीत दिलाई थी। नदीम रणजी के सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। उन्होंने 9 मैचों में कुल 51 विकेट लिए हैं। वहीं अगर पिछले रणजी सत्र की बात करें तो दो सत्रों में नदीम के नाम कुल 100 से ज्यादा विकेट हैं। ऐसे में वह एक अच्छा विकल्प हो सकते हैं जबकि बाएं हाथ के स्पिनर रवींद्र जडेजा को टेस्ट सीरीज के बाद आराम देने के बारें में सोचा जा रहा है। साथ ही जडेजा के पूर्व विकल्प अक्षर पटेल ने कल ही उंगली की सर्जरी करवाई है, जिसके बाद उन्हें कुछ समय तक मैदान से दूर रहना होगा। यह मुमकिन है कि जडेजा को वनडे के लिए टीम में शामिल किया जाय लेकिन टी20 में नदीम को मौका दिया जा सकता है। भारतीय टीम ने अभी अभी दो टेस्ट और एक वनडे सीरीज खेली है और अगले साल भी भारत को ऑस्ट्रेलिया के साथ टेस्ट सीरीज खेलनी है। ऐसे में यह जरूरी होगा कि मुख्य गेंदबाजों को टेस्ट सीरीज से पहले आराम दिया जाय। अगर टी20 में नदीम के अनुभव की बात करें तो उन्होंने 83 टी20 खेले हैं जिनमें उनका प्रदर्शन ठीक रहा है। भारतीय  टीम के पास इंग्लैंड के खिलाफ टी20 में इस युवा खिलाड़ी की प्रतिभा का आंकलन करने का बढ़िया मौका है। अगर जडेजा की अनुपस्थिति में नदीम अच्छा प्रदर्शन कर जाते हैं तो चयनकर्ताओं के पास आगे किसी भी विपरीत परिस्थिति के लिए एक बेहतर विकल्प रहेगा। ये भी पढ़ें: साल 2016 में भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने हासिल की बड़ी उपलब्धियां

चयनसमिति पिछले काफी समय से इस तरह के फैसले ले रही है। इससे पहले जब ऑस्ट्रेलिया दौरे पर वनडे सीरीज के लिए बरिंदर स्रान को अचानक टीम में शामिल किया गया था। वह भी इसी बात का उदाहरण था। वहीं झारखंड टीम के खिलाड़ियों को भारत के सीमित ओवर के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी खुद प्रशिक्षित कर रहे है और वह नदीम की काबिलित को अच्छी तरह जानते हैं।