स्टीव स्मिथ© Getty Images
स्टीव स्मिथ© Getty Images

26 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई कप्तान व स्टार बल्लेबाज स्टीव स्मिथ ने अपना टेस्ट मैच क्रिकेट करियर एक लेग स्पिनर के रूप में किया था। बुधवार को दिए गए सम्मान के बाद उन्होंने कहा कि एक लेग स्पिनर के रूप में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने के बाद वर्ष का आईसीसी क्रिकेटर चुने जाने तक का मेरा सफर आसान नही था।
आपको बता दें स्मिथ ने 13 जुलाई 2010 में पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच खेला और अपना पहला एकदिवसीय मैच 19 फरवरी 2010 को वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला। अपने शुरूआती दौर में स्मिथ निचले क्रम पर बल्लेबाजी करने आया करते थे। ये भी पढ़ें: जानिए MCL टूर्नामेंट मैच के शेड्यूल

आपको बता दें महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के बाद दुनिया के नंबर एक टेस्ट बल्लेबाज बनने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी भी है। स्मिथ ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की वेबसाइट से कहा, ‘आप इन पुरस्कारों और सम्मान के बारे में नहीं सोचते। आप केवल मैदान पर उतरकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहते हो और टीम को अधिक से अधिक मैच जिताने की कोशिश करते हो।’ ये भी पढ़ें: ब्रेंडन मैक्कुलम: अपनी आतिशी बल्लेबाजी से दुनिया भर को मुरीद बनाने वाला क्रिकेट का सितारा
उन्होंने कहा, ‘ मेरे लिए सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुना जाना बहुत सुखद और सम्मानजनक है। पिछले पांच वर्षो ये सफर आसान नही था मैंने सोचा भी नहीं था कि मैं इस स्थिति में पहुंच पाउंगा। स्मिथ ने बल्लेबाजी में शानदार प्रदर्शन किया। स्मिथ आईसीसी सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी हासिल करने वाले चौथे ऑस्ट्रेलियाई है। उनसे पहले रिकी पोंटिंग (2006 और 2007), मिशेल जानसन (2009 और 2014) और माइकल क्लार्क (2013) इसे हासिल कर चुके हैं।