Varun Aaron: Playing in England gave me time to improve my game and work on my mental aspect as well
Varun Aaron © Getty Images

भारतीय तेज गेंदबाज वरुण एरोन के लिए 2018 में इंडियन प्रीमियर लीग का कॉन्ट्रेक्ट ना मिलना एक तरह से सकारात्मक साबित हुआ। एरोन ने ये समय लीसेस्टरशायर क्लब के लिए काउंटी क्रिकेट खेलते हुए बिताया, जो उनके खेल के लिए अच्छा रहा। एरोन का कहना है कि इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट खेलने के दौरान उन्हें अपने खेल को सुधारने के साथ साथ अपनी मानसिकता पर काम करने का मौका मिला।

क्रिकेटनेक्स्ट से बातचीत में झारखंड के इस तेज गेंदबाज ने कहा, “मेरी फिटनेस हमेशा से अच्छी थी। आईपीएल से बाहर होने के बाद इंग्लैंड जाने और वहां खेलने से मुझे अपने खेल पर ध्यान देने का मौका मिला। इसने मुझे अपने खेल में सुधार करने का समय मिला। मानसिक पहलू पर काम करने का भी ये अच्छा मौका था।”

ये भी पढ़ें: नागपुर वनडे में महेंद्र सिंह धोनी हासिल कर सकते हैं ये बड़ा कीर्तिमान

इंग्लैंड से लौटे तेज गेंदबाज एक बार फिर घरेलू क्रिकेट में जुट गए हैं। उन्होंने झारखंड के लिए रणजी ट्रॉफी और फिर इंडिया ए के लिए इंग्लैंड लायंस के खिलाफ प्रथम श्रेणी मैच खेले। फिलहाल एरोन झारखंड के लिए सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी खेल रहे हैं इस बारे में उन्होंने कहा, “लंबे समय बाद यहां वापसी करना अच्छा था। राहुल भाई हमेशा मदद करते हैं। उससे भी बढ़कर, एक अच्छे सीजन के आखिर में ईनाम मिलना अच्छा रहा। इससे मेरे लिए राष्ट्रीय टीम में वापसी करना आसान हो गया।”

ये भी पढ़ें: शाकिब बांग्‍लादेश के लिए अनफिट और IPL के लिए फिट नहीं हो सकते: BCB

झारखंड टीम अपने 6 में 5 लीग मैच जीतकर ग्रुप ए से सुपर लीग में पहुंचने वाले पहली टीम है। एरोन ने हालांकि केवल तीन ही मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने कुल 5 विकेट लिए हैं। उन्होंने कहा, “ये सीजन अब तक मेरे लिए अच्छा रहा है। सैयद मुश्ताक अली मिला-जुला रहा है। कुछ मैचों में मैंने विकेट लिए, इसलिए कुल मिलाकर ये संतोषजनक प्रक्रिया है। मुझे लगता है कि मुझे कुछ खराब मैच देने की इजाजत है लेकिन मुझे लगता है कि मैं अच्छी गेंदबाजी कर रहा हूं और आगे के मैच खेलने के लिए उत्साहित हूं।” सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी का सुपर लीग राउंड 8 मार्च से शुरू हो रहा है।