Vidarbha defends Ranji Trophy title beats Saurashtra by runs, Aditya Sarwate claims 10 wickets

रणजी ट्रॉफी फाइनल में डिफेंडिंग चैंपियन विदर्भ ने शानदार बल्लेबाजी और सधी गेंदबाजी के दमपर सौराष्ट्र पर 78 रन से जीत हासिल कर लगातार दूसरी बार खिताब पर कब्जा किया। विदर्भ ने चौथे दिन सौराष्ट्र को 206 रन का लक्ष्य दिया था। जिसके जवाब में पांचवें दिन सौराष्ट्र की टीम 127 रन पर ऑलआउट हो गई।

मैच को हीरो रहे फिरकी गेंदबाज आदित्य सरवटे जिन्होंने दोनों पारियों में 11 विकेट चटकाए और टीम को दूसरी बार खिताब हासिल करने में अहम भूमिका निभाई। सरवटे ने पहली पारी में 5 विकेट हासिल किए थे जबकि दूसरी पारी में भी इतने ही विकेट चटकाए।

पढ़ें:- लगातार दूसरी बार रणजी ट्रॉफी जीतने वाली छठी टीम बनीं विदर्भ

रणजी ट्रॉफी फाइनल में विदर्भ के कप्तान फैज फजल ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया था। टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और महज 139 के स्कोर पर टीम ने अपने 6 बल्लेबाज गंवा दिए थे। अक्षय करनेवार की नाबाद 73 रन और अक्षय वखाड़े के 34 रन की बदौलत टीम 312 के स्कोर तक पहुंचने में कामयाब रही। दोनों ने आठवें विकेट के लिए 78 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी निभाई।

पहली पारी में सौराष्ट्र के पुछल्ले बल्लेबाजों ने भी काफी अच्छी बल्लेबाजी की और मुश्किल में घिर चुकी टीम को 307 रन तक पहुंचाया। सौराष्ट्र के स्टार बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा फ्लॉप रहे लेकिन स्नेल पटेल ने 102 रन की पारी खेल विदर्भ की बड़ी बढ़त पर पानी फेरा।

पढ़ें:- रणजी सेमीफाइनल में पुजारा के खिलाफ हुई हूंटिंग, फैन्‍स ने कहा ‘चीटर’

5 रन की बढ़त हासिल करने के बाद विदर्भ ने दूसरी पारी में 200 रन बनाए और सौराष्ट्र के सामने 206 रन का लक्ष्य रखा। विदर्भ की शानदार गेंदबाजी के आगे सौराष्ट्र ने महज 55 रन पर ही 5 विकेट गंवा दिए थे। टीम की तरफ से विश्वराज जडेजा ने रन की पारी खेली लेकिन टीम की हार को वो टाल नहीं पाए।

विदर्भ ने पिछली बार फाइनल में दिल्ली की टीम को हराकर रणजी ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया था।