we will bring our pitch from our home wasim akram badly troll pakistan team

नई दिल्ली: पाकिस्तान के महान तेज गेंदबाज वसीम अकरम टी20 वर्ल्ड कप 2022 में टीम के प्रदर्शन से बहुत नाराज हैं. अकरम का मानना है कि पाकिस्तानी टीम के पास इस वर्ल्ड कप के लिए कोई प्लानिंग नहीं थी. और इससे ऐसा लग रहा था कि यह नतीजा हो ही सकता है. पाकिस्तान को गुरुवार को पर्थ में खेले गए मुकाबले में जिम्बाब्वे से 1 रन से हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद टीम को हर ओर से आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है. पूर्व खिलाड़ी टीम मैनेजमेंट, सिलेक्टर्स और कप्तान को इसके लिए जिम्मेदार ठहरा रहे हैं.

अकरम ने कहा, ‘एक खिलाड़ी, पूर्व खिलाड़ी के तौर पर हम जानते हैं कि हार-जीत खेल का हिस्सा है. लेकिन यह जो हुआ यह होना ही था. एक-डेढ़ साल से आपको पता है कि वर्ल्ड कप 2022 होना है. आपको तारीखें पता थीं. आपको पता था कि वहां जाना है. आपको वहां फास्ट बोलर्स चाहिए लेकिन मजाल है कि किसी ने कोई तैयारी की हो.’

पूर्व कप्तान ने कप्तान और चीफ सिलेक्टर पर निशाना साधते हुए कहा कि चयन बिलकुल अच्छा नहीं था. उन्होंने कहा, ‘आपने कोई ऑलराउंडर रखा है टीम में? एक लड़का था इंग्लैंड के खिलाफ आमिर जमाल को खिलाया और उसके बाद उसे ऑस्ट्रेलिया नहीं लेकर गए. यानी आपकी प्लानिंग नहीं थी.’

मैच के बाद बाबर आजम ने पिच को मुश्किल बताया था. इस पर वसीम ने खास तौर पर सवाल उठाते हुए A स्पोर्ट्स से बातचीत में कहा, ‘आपने कहा कि पिच मुश्किल है, पिच मुश्किल है तो गद्दाफी स्टेडियम की यहां से साथ ले जाते हैं.’ अकरम में आगे कहा, ‘हमें कहना चाहिए कि पिच हम अपने घर से लेकर आएंगे, हमसे इस पिच पर नहीं खेला जाएगा.’

बाबर आजम की प्लानिंग पर सवाल उठाते हुए अकरम ने कहा कि यह कप्तान का काम है कि वह बताए कि उसे क्या टीम चाहिए. उन्होंने कहा, ‘यह कप्तान का काम है कि वह सबको बैठाकर बात करे कि मैंने वर्ल्ड कप जीतना है तो मुझे किस तरह की टीम चाहिए. वहां की पिचें कैसी हैं और हमें कैसे खिलाड़ी चाहिए.’

अकरम ने कहा, ‘एक सिस्टम होता है. आपको पता था कि वहां आपको पांचवां तेज गेंदबाज चाहिए होगा. एक पेस बोलिंग ऑलराउंडर चाहिए होगा. फहीम अशरफ था, आमिर जमाल था- आपको उन्हें कम-से-कम तैयार तो करना चाहिए था. आपने एक मिस्ट्री स्पिनर रखा- इबरार- जो फर्स्ट क्लास में इतना अच्छा प्रदर्शन कर रहा है. आपने उसे इंग्लैंड के खिलाफ टीम में रखा लेकिन एक मैच नहीं खिलाया. आखिर बड़े प्लेयर्स को सभी मैच खेलने का इतना शौक क्यों है. कई बार बड़े खिलाड़ियों को खुद ही बैठ जाना चाहिए ताकि वह नए खिलाड़ियों को मौका मिले और वह देख सके कि वर्ल्ड कप में किन्हें आजमाया जा सकता है. यह सब कप्तान का काम है. कोच और स्टाफ सिर्फ आपकी मदद कर सकता है.’