© PTI
© PTI

भले ही महेंद्र सिंह धोनी अब भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान ना हों। लेकिन उनकी लोकप्रियता अभी भी सातवें आसमान पर है। धोनी की एक झलक पाने के लिए दर्शक किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हो जाते हैं। धोनी भारत के किसी भी शहर में क्यों ना हों, लेकिन उन्हें देखने के लिए प्रशंसकों का हुजूम उमड़ पड़ता है। प्रशंसक उनके एक ऑटोग्राफ या सेल्फी के लिए बेचैन रहते हैं। ऐसा ही कुछ नजारा धोनी के गृहनगर रांची में भी देखने को मिला। विजय हजारे ट्रॉफी में धोनी झारखंड टीम के कप्तान हैं और मैच खेलने के लिए रांची के बिसरा मुंडा एयरपोर्ट पहुंचे। लेकिन धोनी एयरपोर्ट से अपने घर जाने के लिअए एसयूवी कार में जा बैठे। खबरों की मानें को वहां एक लड़की धोनी का इंतजार कर रही थी और वह लड़की धोनी की कार के सामने ही खड़ी हो गई। ये भी पढ़ें: बेंगलुरु टेस्ट में डीआरएस मुद्दे पर कार्रवाई न होने से हैरान फैफ डुप्लेसी

इसके बाद सुरक्षाकर्मियों ने लड़की को धोनी की कार के सामने से हटाया, लेकिन इस दौरान उस लड़की का बैग गिर गया और धोनी की गाड़ी बैग के ऊपर से निकल गई। लेकिन जब धोनी को इसका ऐहसास हुआ तो उन्होंने तुरंत गाड़ी के ब्रेक लगा दिए। और उसके बाद उन्होंने लड़की का हाल-चाल लिया और जाना कि क्या उन्हें कोई चोट तो नहीं आई। धोनी की यही दरियादिली उन्हें महान बनाती है।

महेंद्र सिंह धोनी © PTI
महेंद्र सिंह धोनी © PTI

आपको बता दें कि धोनी ने साल 2014 के दिसंबर में टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। और इसके बाद उन्होंने इस साल जनवरी में सीमित ओवरों की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था। धोनी ने भारत ए की तरफ से इंग्लैंड ए के खिलाफ अंतिम बार कप्तानी की थी। और मुंबई के ब्रेबोर्न में खेले गए इस मुकाबले के दौरान एक प्रशंसक सुरक्षा घेरा तोड़कर मैदान के बीच पहुंच गया था और उसने धोनी के पैर छुए थे। धोनी विजय हजारे ट्रॉफी में झारखंड टीम के कप्तान हैं।