भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह ने इंटरनेशनल क्रिकेट में कई ऐसी पारियां खेली है जो फैंस के जेहन में आज भी ताजा है. युवी के 2007 आईसीसी टी-20 विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाफ मैच में एक ओवर में 6 छक्कों को भला कैसे भुलाया जा सकता है. युवराज ने पेसर स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में लगातार 6 छक्के के याद करते हुए बताया है कि किस तरह से ऑलराउंडर एंड्रयू फ्लिंटॉफ ने उन्हें गुस्सा दिलाया था.

हाल में इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहने वाले बाएं हाथ के इस पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने इसके अलावा एक और मैच का जिक्र करते हुए बताया है कि किस तरह से इंग्लैंड के दिमित्री मास्केरनहास ने उनकी गेंदों पांच छक्के जड़े थे. युवी ने कहा कि छह छक्के उनका एक तरह से मास्केरनहास को जवाब था.

MS Dhoni की कप्तानी से आखिर इतना अधिक क्यों प्रभावित है टीम इंडिया का ये पेसर, जानें वजह

बीबीसी की पोडकास्ट पर युवराज ने कहा, ‘फ्रैडी (फ्लिंटॉप) तो फ्रैडी हैं. उन्होंने मुझसे कुछ कहा और मैंने पलट कर कुछ कहा. मैं खुश था कि मैंने छह छक्के लगाए क्योंकि इंग्लैंड के खिलाफ मैच में कुछ दिनों पहले मास्केरनहास ने वनडे में मेरी गेंदों पर पांच छक्के जड़े थे.’

बाएं हाथ के पूर्व बल्लेबाज ने कहा, ‘मैंने जब छठा छक्का जड़ा उसके तुरंत बाद पलट पर फ्रैडी की तरफ देखा और फिर मास्केरनहास की तरफ, जो मेरी तरफ देखकर मुस्करा दिए.’

‘क्रिस ब्रॉड ने जर्सी पर साइन करने के लिए बोला’ 

युवराज ने कहा कि स्टुअर्ट के पिता क्रिस ब्रॉड ने उनसे अपने बेटे का करियर ‘करीब-करीब खत्म करने के कारण’ एक जर्सी साइन करने को कहा था.

युवराज ने कहा, ‘उनके पिता, क्रिस ब्रॉड मैच रेफरी थे. वो अगले दिन मेरे पास आए और कहा कि आपने तो मेरे बेटे का करियर तकरीबन खत्म ही कर दिया है और अब आपको उसके लिए शर्ट पर हस्ताक्षर करना होगा.’

ऑस्ट्रेलियाई पेसर ने कहा-इस भारतीय बल्लेबाज को आउट करना सबसे मुश्किल, चट्टान से की तुलना

उन्होंने कहा, ‘तब मैंने उन्हें अपनी जर्सी दी और स्टुअर्ट के लिए एक संदेश लिखा, ‘मुझे पांच छक्के पड़े थे इसलिए मुझे पता है कि कैसा महसूस होता है. इंग्लैंड के साथ भविष्य के क्रिकेट के लिए शुभकामनाएं.’

गौरतलब है कि उसके बाद स्टुअर्ट ब्रॉड ने इंटरनेशनल क्रिकेट में मजबूत वापसी की.