एंड्रयू स्ट्रॉस ने पहले कुक के कप्तान बने रहने का समर्थन किया था © Getty Images
एंड्रयू स्ट्रॉस ने पहले कुक के कप्तान बने रहने का समर्थन किया था © Getty Images

इंग्लैंड के कप्तान एलिस्टेयर कुक के कप्तानी से इस्तीफा देने के बाद से ही उनके इस फैसले के पीछे की वजह को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं। इंग्लैंड क्रिकेट के डायरेक्टर और पूर्व खिलाड़ी एंड्रयू स्ट्रॉस का मानना है कि कुक कप्तानी के दबाव से थक चुके थे और उन्हें लगा कि अब इस जिम्मेदारी के लिए युवा खिलाड़ी की जरूरत है इस वजह से उन्होंने यह फैसला लिया है। स्ट्रॉस ने कहा, “वह इंग्लैंड का कप्तान बनने के लगातार बढ़ रहे दबाव से परेशान हो रहा था। सब जानते हैं कि भारत का दौरा उसके लिए खराब सत्र रहा। अब समय आ गया था कि वह पीछे हटे और टीम को आगे ले जाने के लिए सही फैसला ले।” ये भी पढ़ें: विराट कोहली को आउट करने के लिए भाग्य की जरूरत: डैरन लैहमेन

भारत दौरे पर 4-0 से टेस्ट सीरीज हारने के बाद कुक ने यह फैसला लिया। स्ट्रॉस ने आगे कहा, “जनवरी में जब मैंने उससे बात की थी तो यह साफ था कि उसे लग रहा है कि पिछले 12 महीने के खराब सत्र से टीम को आगे ले जाने के लिए काफी ऊर्जा, दृढ़ता और निश्चय की जरूरत है।” स्ट्रॉस का यह भी मानना है कि कुक का फैसला बिल्कुल सही है। उन्होंने इस बारे में कहा, “केवल वह ही जानता है उसमें कितनी क्षमता बाकी है और कप्तान की जिम्मेदारी और अपेक्षाओं से वह कितना अधिक दबाव में है। उसे लगता है कि यह समय युवा खिलाड़ी, नए जोश और अलग सोच के साथ किसी और के इस पद को ग्रहण करने का है।” ये भी पढ़ें: जब अफरीदी की गालियों के जवाब में महेंद्र सिंह धोनी ने जड़ा शतक

कुक ने अपनी कप्तानी में इंग्लैंड को कई खिताब जिताएं है। जिसमें प्रतिष्ठित एशेज ट्रॉफी भी शामिल है जिसे कुक ने दो बार जीता है। कुक के कप्तानी से हटने के बाद इंग्लैंड के बेहतरीन बल्लेबाज जो रूट का नाम कप्तानी की दौड़ में सबसे आगे है।