चोटिल होने के कारण रोहित शर्मा क्रिकेट से कुछ महीनों के लिए दूर रहेंगे © Getty Images
चोटिल होने के कारण रोहित शर्मा क्रिकेट से कुछ महीनों के लिए दूर रहेंगे © Getty Images

भारतीय टीम के मुख्य कोच अनिल कुंबले ने एक बयान दिया है जिसके बाद भारतीय टीम के बड़े से बड़े खिलाड़ी के लिए मुसीबत खड़ी हो सकती है। दरअसल कोच अनिल कुंबले ने कहा कि चोट से उबर रहे खिलाडि़यों को राष्ट्रीय टीम में वापसी करने के लिए पहले घरेलू क्रिकेट में खेलना होगा। बीते समय में ऐसे कई उदाहरण रहे हैं जब खिलाड़ी गंभीर चोट के बाद तेजी से वापसी के चक्कर में चोटिल हो गए।

रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, शिखर धवन और भुवनेश्वर कुमार चोटिल खिलाड़ियों की सूची में शामिल हैं और कुंबले को लगता है कि खिलाड़ियों के साथ बातचीत इसमें अहम है क्योंकि उनकी वापसी की उत्सुकता को समझा जा सकता है। कुंबले ने कहा, ‘किसी भी टीम की गतिविधि में बातचीत अहम है। अच्छा कर रहे हैं या नहीं, लेकिन चोटिल खिलाड़ियों के साथ बातचीत इतनी ही अहम है। इस खेल को खेलने के बाद मैं जानता हूं कि जब कोई और खिलाड़ी खेल रहा होता है तो उनके दिमाग में क्या चल रहा होता है। वह उम्मीद करता है कि उसकी टीम और वह खिलाड़ी अच्छा करे, लेकिन उन्हें एक साथ रखना काफी अहम होता है।’ भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को मिली नई जिम्मेदारी, पढ़ने के लिए क्लिक करें

अनिल कुंबले राहुल और रोहित के लिए बहुत दुखी थे जिन्हें हाल में जांघ की गंभीर चोट लगी थी जिसकी सर्जरी की जरूरत हो सकती है। उन्होंने कहा, ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि लोकेश राहुल जो इतना बढ़िया खेला, अब नहीं खेल रहा। इसी तरह भुवी, शिखर। रोहित के लिए यह बड़ा झटका है। रोहित के लिये बहुत दुखी हूं क्योंकि वह टेस्ट प्रारूप में बढ़िया कर रहा था। निश्चित रूप से हम रोहित की छोटे प्रारूप में अहमियत जानते हैं।’

आपको बता दें कि रोहित शर्मा न्यूजीलैंड के खिलाफ आखिरी वनडे मैच में चोटिल हो गए थे और खबरों के मुताबिक रोहित शर्मा को सर्जरी की जरूरत है और वह सर्जरी के लिए लंदन जाएंगे साथ ही रोहित क्रिकेट से 10-12 हफ्ते तक दूर रहेंगे। रोहित के साथ ही शिखर धवन, लोकेश राहुल और भुवनेश्वर कुमार भी न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में चोटिल हो गए थे जिसके बाद उन सभी खिलाड़ियों को सीरसीज से हटना पड़ा था। अब जबकि भारतीय टीम के मुखेय कोच अनिल कुंबले ने ऐसा बयान दिया है तो इन सभी खलिाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी से पहले घरेलू क्रिकेट में अपनी फिटनेस और फॉर्म साबित करनी होगी।