Bhuvneshwar Kumar: We are ready for the tours of England and Australia
भुवनेश्वर कुमार © AFP

भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार का मानना है कि दक्षिण अफ्रीका के मौजूदा दौरे पर भारतीय टीम का आक्रामक प्रदर्शन इसी साल होने वाले इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के कड़े दौरों के लिए अच्छा रहेगा। भारत ने दक्षिण अफ्रीका दौरे की शुरुआत टेस्ट सीरीज में 1-2 की हार के साथ की थी लेकिन सीरीज का अंत कल वनडे और टी20 सीरीज जीत के साथ हुआ। भुवनेश्वर को टी20 सीरीज के लिए मैन ऑफ द सीरीज का खिताब दिया गया।

भुवनेश्वर ने कहा, ‘‘हम अधिक लालची नहीं होना चाहते और इन दो ट्रॉफी के साथ हम खुश हैं। उम्मीद करते हैं कि अगली बार हम सभी तीनों ट्रॉफी जीत पाएंगे। ये दौरा शानदार रहा, खासकर टेस्ट सीरीज। हां, हमने दो मैच गंवाए लेकिन वे काफी करीबी थे। हम 0-3 से भी हार सकते थे और 2-1 से भी जीत सकते थे। लेकिन हम जिस तरीके से खेले उसने हमें आत्मविश्वास दिया और हम इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के दौरों पर जाने और वहां बेहतर प्रदर्शन करने के लिए तैयार हैं।’’

भुवनेश्वर ने कहा कि टी20 क्रिकेट में सफलता के लिए विविधता और टाइमिंग महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा, ‘‘टी20 क्रिकेट विविधता का इस्तेमाल करने से जुड़ा है और आपकी टाइमिंग परफेक्ट होनी चाहिए। मैं जो भी ‘नकल बाल’ डालता हूं, चाहता हूं कि बल्लेबाज उस पर बड़ा शॉट खेलने की कोशिश करे। आप इस तरह से विकेट ले सकते हैं और यही पावरप्ले में मेरी सफलता का सबसे बड़ा कारण रहा है।’’

श्रीलंका के खिलाफ टी20 ट्राई सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान, विराट कोहली, महेंद्र सिंह धोनी को आराम
श्रीलंका के खिलाफ टी20 ट्राई सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान, विराट कोहली, महेंद्र सिंह धोनी को आराम

विभिन्न फॉर्मेट में खेलने का अंतर बताते हुए भुवनेश्वर ने कहा, ‘‘टी20 ऐसा फॉर्मेट है जो तेजी से खत्म हो जाता है और आपके पास सिर्फ चार ओवर होते हैं। अगर आप ओवर में तीन खराब गेंद फेंकोगे तो इन पर रन बनेंगे और आपका पूरा हिसाब बिगड़ जाएगा। इन तीन गेंदों के कारण टीम बैकफुट पर आ जाएगी। इसलिए हर एक गेंद अहम होती है। इसके कारण गेंदबाज को सोचना पड़ता है। हर गेंद सही होनी चाहिए और आपको योजना को सही तरीके से लागू करना चाहिए।’’

उन्होंने कहा, ‘‘टेस्ट मैचों में आपको वनडे या टी20 क्रिकेट की तुलना में कुछ अलग नहीं करना होता लेकिन ये लाइन और लेंथ का खेल है। वनडे क्रिकेट में आप यॉर्कर और धीमी गेंद करने की कोशिश करते हैं। फॉर्मेटों के बीच के सामंजस्य बैठाना कभी आसान नहीं होता लेकिन ये अभ्यास और तैयारी से जुड़ा है। आपको सामंजस्य बैठाने के लिए दो से तीन ओवर की जरूरत होती है लेकिन टी20 में आपको रणनीति के साथ तैयार रहना होगा क्योंकि आप बल्लेबाज के रन बनाने के बाद प्रतिक्रिया नहीं दे सकते।’’