कॉलिन मुनरो ने नाइट राइडर्स के लिए सबसे ज्यादा 29 रन बनाए © Getty Images
कॉलिन मुनरो ने नाइट राइडर्स के लिए सबसे ज्यादा 29 रन बनाए © Getty Images

दिनेश रामदीन और केवन कूपर की शानदार साझेदारी की मदद से त्रिनबागो नाइट राइडर्स टीम ने सीपीएल 2017 का फाइनल मैच जीत लिया है। सैंट किट्स एंड नेविस पैट्रियाट्स के दिए 136 रनों के लक्ष्य को नाइट राइडर्स टीम ने 19 ओवर में हासिल कर 3 विकेट से जीत दर्ज की। नाइट राइडर्स की ओर से कॉलिन मुनरो और केवन कूपर ने सबसे ज्यादा 29-29 रन बनाए। वहीं रामदीन ने भी नाबाद 26 रनों की मैच विनिंग पारी खेली। सैंट पैट्रियाट्स के गेंदबाज मोहम्मद हफीज, तबरेज शमसी और शेल्डन कॉट्रेल को 2-2 विकेट मिले। विपक्षी टीम की ओर से कार्लोस ब्रैथवेट ने सबसे ज्यादा 30 रनों की पारी खेली।

टॉस जीतकर नाइट राइडर्स के कप्तान ड्वेन ब्रावो ने पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। पारी की शुरुआत करने उतरे सलामी बल्लेबाज और कप्तान क्रिस गेल केवल 1 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। फाइनल मैच में गेल से बड़े धमाके की उम्मीद थी लेकिन वह फिर से फ्लॉप रहे। पैट्रियाट्स टीम को दूसरा झटका मोहम्मद हफीज के रूप में लगा जो 5 रन बनाकर जेवन सियरलेस का शिकार बने। इविन लुईस भी केवल 16 रन बनाकर आठवें ओवर में सुनील नारायन की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हो गए। [ये भी पढ़ें: सीपीएल 2017: बल्लेबाज के शॉट लगाने पर भड़क गए रशीद खान]

ब्रैंडन किंग (19) ने जॉनेथन कॉर्टर (21) के साथ मिलकर पारी को संभालने की कोशिश की लेकिन 11वें ओवर में कूपर ने ब्रैंडन को भी पवेलियन भेज दिया। कार्लोस ब्रैथवेट की नाबाद 30 रनों की पारी की मदद से पैट्रियाट्स टीम 135 रनों का स्कोर खड़ कर सकी। नाइट राइडर्स की ओर से जेवन सियरलेस और केवन कूपर ने 2-2, वहीं रोन्सफोर्ड बीटॉन और सुनील नारायन ने 1-1 विकेट लिया। 136 के लक्ष्य का पीछा करने उतरी नाइट राइडर्स टीम की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। [ये भी पढ़ें: कॉलिन मुनरो की अर्धशतकीय पारी की मदद से त्रिनबागो नाइट राइडर्स फाइनल में पहुंची]

नारायन (3) एक बार फिर सस्ते में आउट हो गए। हालांकि मुनरो ने फिर पारी को अपने दम पर संभाला। कप्तान ड्वेन ब्रावो के शून्य रन पर कॉट्रेल की गेंद पर बोल्ड होने के बाद मुनरो भी हफीज के ओवर में अपना विकेट गंवा बैठे। नौवे ओवर में डैरेन ब्रावो भी 1 रन बनाकर हफीज का शिकार बने। चौथे स्थान पर बल्लेबाजी करने आए हमजा तारिक 18 रन बनाकर तबरेज शमसी के गेंद पर कैच आउट हो गए। यहां से दिनेश रामदीन ने मोर्चा संभाला। रामदीन ने केवन कूपर के साथ मिलकर 46 रनों की साझेदारी बनाई और नाइट राइडर्स को खिताबी जीत दिलाई।