Ian Chappell: Pakistan are desperate to get international cricket back
इयान चैपल © AFP

साल 2009 में पाकिस्तान दौरे पर गई श्रीलंका क्रिकेट टीम पर लाहौर में हुए आतंकी हमले के बाद से आज तक इस देश में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी नहीं हो पाई है। आलम ये है कि पाकिस्तान को अपनी सभी अंतर्राष्ट्रीय सीरीज के साथ साथ घरेलू टी20 लीग पीएसएल का आयोजन भी यूएई में करना पड़ता है।

ये भी पढ़ें: ‘मुझे उम्मीद है बांग्लादेशी खिलाड़ी न्यूजीलैंड लौटेंगे’

हालांकि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने इस साल पीएसल के आखिरी कुछ लीग मैच, प्लेऑफ और फाइनल का आयोजन अपनी जमीन पर ही कराया। इस दौरान क्रिकेट लेकर पाकिस्तान के लोगों की दीवानगी देखने को मिली। जिसके बाद पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर इयान चैपल और डीन जोन्स ने इस उपमहाद्वीप देश में क्रिकेट की वापसी की पैरवी की है।

चैपल ने कहा, “पाकिस्तान क्रिकेट को वापस यहां लाने के लिए बेताब, जैसा कि उन्हें होना भी चाहिए। अगर बच्चे अपने नायकों को मैदान पर खेलता नहीं देखेंगे तो इससे पाकिस्तान में इस खेल को बढ़ने में मदद नहीं मिलेगी। पाकिस्तान से मुझे जो एहसास हुआ है वो ये है कि वो लोग ये सुनिश्चित करने के लिए कि चीजें ठीक हैं, अपनी सीमा से बाहर तक गए हैं।”

ये भी पढ़ें: क्राइस्टचर्च हमले पर केन विलियमसन का बयान: सीरीज का इस तरह खत्म होना शर्मनाक

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ने आगे कहा, “इस समय दुनिया में जिस तरह का माहौल है, आप हर जगह दौरा करना बंद कर सकते हैं। मुझे लगता है कि अब हम पाकिस्तान में खेलने के बारे में बातचीत करने से आगे बढ़ गए हैं। अब किसी को तो हिम्मत दिखाकर ये करना होगा।”

डीन जोन्स ने भी चैपल की बात का पूरा समर्थन किया। उन्होंने कहा, “पाकिस्तान के लोग कमाल हैं। उन्हें अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की जरूरत है। खेल को इसकी जरूरत है और देश को इसकी जरूरत है। उनके पास ऐसा प्रधान मंत्री है जो विश्व कप विजेता कप्तान रह चुका है। उन्हें खेल में लगाने के लिए क्रिकेट की मेजबानी से मिलने वाले पैसों की जरूरत है।”