ICC World Cup 2019: We can’t judge players on one bad innings, says Ravindra Jadeja
रविंद्र जडेजा (IANS)

भारतीय टीम विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपना पहला वार्म अप मैच हार गई। लंदन के कैनिंग्टन ओवल में खेले गए इस मुकाबले में स्विंग के खिलाफ भारतीय बल्लेबाजों की कमजोरी साफ नजर आई। 6 भारतीय खिलाड़ी दहाई का आंकड़ा भी पार नहीं कर सके और पूरी टीम 39.2 ओवर में ढेर हो गई। हालांकि मैच में अर्धशतक जड़ने वाले रविंद्र जडेजा ने कहा है कि एक खराब पारी से किसी खिलाड़ी का आंकलन नहीं किया जाना चाहिए।

अभ्यास मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए आए जडेजा ने कहा, “ये हमारा पहला मैच था, ये केवल एक मैच है और हम एक खराब मैच, एक खराब पारी के आधार पर खिलाड़ियों का आंकलन नहीं कर सकते हैं। हमारे पास इस पर काम करने के लिए समय है। परेशान होने की कोई वजह नहीं है, अच्छा क्रिकेट खेलते रहना है। बतौर बल्लेबाजी यूनिट हम अपनी बल्लेबाजी पर कड़ी मेहनत करेंगे, सभी के पास अच्छा खासा अनुभव है, इसलिए परेशानी की कोई बात नहीं है।”

जडेजा को उम्मीद है कि विश्व कप के दौरान टीम इंडिया बेहतर प्रदर्शन करेगी। उन्होंने कहा, “ये इंग्लिश के साधारण हालात थे, विकेट शुरुआत में नर्म थी लेकिन दिन के आगे बढ़ते बढ़ते ये बेहतर होती गई। हमें उम्मीद है कि हमें इतनी ज्यादा घास नहीं मिलेगी और विश्व कप में बल्लेबाजी के लिए बेहतर विकेट मिलेगा।”

ICC WORLD CUP: PCB ने पाक खिलाड़ियों को परिवार को साथ रखने की अनुमति दी

पहले बल्लेबाजी कर ली चुनौती

भारतीय ऑलराउंडर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने के फैसले पर कहा, “हमें पता था कि सीम कंडीशन होंगी, इसलिए हमने पहले बल्लेबाजी कर मुश्किल हालात का सामना करने का फैसला किया क्योंकि अगर इन मुश्किल हालातों में बल्लेबाजी करेंगे तो टूर्नामेंट के मैचों में बल्लेबाजों को आसानी होगी। हमने इसे चुनौती की तरह लिया, हम अच्छा करेंगे, इसमें कोई शक नही है।”

आईपीएल के दौरान बल्लेबाजी पर काम कर रहे थे जडेजा

50 गेंद पर 54 रनों की अपनी शानदार पारी पर जडेजा ने कहा, “जहां भी मैं खेलता हूं, मैं वही करने की कोशिश करता हूं जो करता आया हूं। मैं विश्व कप के बारे में सोचकर अपने ऊपर दबाव नहीं डालूंगा, इसे साधारण रखने की कोशिश करूंगा।”

‘टॉप ऑर्डर के विफल होने पर निचले क्रम को तैयार रहना चाहिए’

भारतीय क्रिकेटर ने आगे कहा, “मेरे पास काफी समय था, बहुत ओवर बाकी थे। इसलिए मैं अपने आप से बात कर रहा था ताकि गलत शॉट ना खेलूं। कोई जल्दबाजी नहीं थी। मुझे पता था कि अगर मैं शुरुआती ओवर खेल जाउंगा तो मुझे मदद मिलेगी और यही हुआ। मैं आईपीएल के दौरान अपनी बल्लेबाजी पर काम कर रहा था। जब भी मुझे मौका मिलता था, मैं नेट पर जाकर अपनी तकनीकि और शॉट सेलेक्शन पर करता।”