साल के आखिर में होने वाले ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए एडिलेड पहुंचने पर भारतीय टीम क्वारेंटीन के दौरान छोटे-छोटे ग्रुप में अभ्यास करेगी। बता दें कि बीसीसीआई और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की दोनों टीमों को पर्थ में अभ्यास करवाने की योजना पहले ही चौपट हो चुकी है।

चूंकि वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया सरकार ने बाहर से आने वाले खिलाड़ियों को 14 दिन के क्वारेंटीन के दौरान थोड़ी सी भी छूट देने के इंकार कर दिया था, इसी वजह से सीरीज की शुरुआत पर्थ की बजाय एडिलेड से होगी।

एडिलेड पहुंचने के बाद मेहमान टीम को तुरंत जांच प्रक्रिया से गुजरना होगा। जिसके बाद टीम को 3-4 खिलाड़ियों के ग्रुप में बांटा जाएगा। साउथ ऑस्ट्रेलिया के उप मुख्य सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी माइकल क्यूसैक ने खबर की पुष्टि की।

एबीसी वेबसाइट को दिए बयान में क्यूसैक ने कहा, “वो छोटे बबल्स में अभ्यास करेंगे। इसलिए, वहां क्वारेंटीन के दौरान तीन या चार खिलाड़ियों को अभ्यास करने की इजाजत होगी। और समान खिलाड़ी ही एक दूसरे के साथ खिलाड़ी होंगे।”

उन्होंने आगे कहा, “अगर आप पूरे स्क्वाड को एक साथ ट्रेन करेंगे और एक भी शख्स अगर कोरोना पॉजिटिव होता है तो बाकी सब उसके संपर्क में होंगे और फिर सभी को 14 दिन के लिए सेल्फ आइसोलेशन में जाना होगा।”

अधिकारी चाहते हैं कि टीम ना केवल छोटे-छोटे ग्रुप में अभ्यास करे बल्कि एक ग्रुप में समान खिलाड़ी ही रहें। यानि कि बोर्ड टीम को बल्लेबाजों, तेज गेंदबाजों और स्पिनर्स के ग्रुप में बांट सकता है।

बता दें कि बीसीसीआई ने ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए 23 से 25 खिलाड़ियों का एक बड़ा स्क्वाड चुनने का फैसला किया है। ताकि किसी खिलाड़ी के बीमार होने पर बाहर से विकल्प ना बुलाना पड़े।

भारतीय क्रिकेट टीम एडिलेड ओवल के नए नवेले होटल में रुकेगी, जिसका निर्माण लगभग खत्म हो चुका है और 25 सितंबर को होटल का उद्घाटन किया जाना है। इस होटल की खासियत ये है कि यहां रुकने पर टीम को ना केवल ओवल में आने जाने की छूट होगी बल्कि वो एडिलेड ओवल में भी जा सकेंगे जो कि होटल के थोड़ी ही दूरी पर है।