limiting number of unsuccessful DRS referrals would have ‘better impact on game’; Says Josh Hazlewood
Josh Hazelwood @getty (file image)

आस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के अनुभवी तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड का कहना है कि अंपायर के फैसले की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) में हर टीम के लिए असफल रिव्यू की संख्या घटाकर एक कर देनी चाहिए जिसका टेस्ट क्रिकेट पर अच्छा असर पड़ेगा।

CPL 2020 : जमैका तलावास को नहीं मिल पाएगी असिस्टेंट कोच रामनरेश सरवन की सेवाएं

इस साल जून में इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने असफल रिव्यू की संख्या बढाकर तीन प्रति टीम कर दी थी। डीआरएस 2008 में लागू किया गया था। हेजलवुड का मानना है कि एक ही रिव्यू का मौका देने से यह होगा कि पूरी तरह आश्वस्त होने पर ही कोई टीम रिव्यू लेगी।

उन्होंने क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू से कहा ,‘रिव्यू का खेल पर बेहतर असर भी होना चाहिए। मुझे लगता है कि अगर हर टीम को हर पारी में एक ही मौका दिया जाए तो इसका बिल्कुल अलग तरीके से इस्तेमाल होगा।’

साउथम्पटन टेस्ट: अजहर अली ने जीता टॉस, पहले बल्लेबाजी करेगा पाकिस्तान

उन्होंने कहा,‘इसके साथ ही अंपायर भी अलग तरह से अंपायरिंग करेंगे।’ हेजलवुड पिछले साल एशेज श्रृंखला में ऑस्ट्रेलियाई टीम का हिस्सा थे जब एजबस्टन और लॉडर्स टेस्ट में डीआरएस को लेकर काफी बवाल हुआ था