नामिबिया के महानतम खिलाड़ी और ओलंपिक रजत पदक विजेता फर्राटा धावक फ्रेंकी फ्रेडरिक्स (Frankie Fredericks) रहे हैं लेकिन अब देश की क्रिकेट टीम के सदस्यों से उन्हें प्रतिस्पर्धा मिल सकती है।

गेरहार्ड इरास्मस की टीम ने वो कर दिखाया है जिसकी कल्पना भी शायद उनके देशवासियों ने नहीं की होगी। पश्चिम दिल्ली से भी कम आबादी वाले देश के गुमनाम से क्रिकेटर आयरलैंड को हराकर टी20 विश्व कप सुपर 12 में पहुंच गए।

नामिबिया ने 2003 में 50 ओवरों का विश्व कप खेला था जिसमें भारत ने उसे हराया था लेकिन पिछले 18 साल में इसने अपने खेल में काफी सुधार किया है।

इरास्मस ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘हमारा एक छोटा देश है जिसमें बहुत कम लोग क्रिकेट खेलते हैं। हमें खुद पर गर्व होना चाहिए। अभी जीत का खुमार चढ़ा नहीं है।’’

इरास्मस और डेविड विसे जीत के नायक रहे। इरास्मस ने इस पर खुशी जताते हुए कहा ,‘‘ दबाव के समय सीनियर खिलाड़ियों पर जिम्मेदारी होती है जो आज हम दोनों ने निभाई । उम्मीद है कि आगे भी ऐसा कर सकेंगे।’’

आयरलैंड के कप्तान एंड्रयू बालबर्नी ने स्वीकार किया कि उनकी टीम इस हार को भुला नहीं सकेगी। उन्होंने कहा, ‘‘हम आहत हैं। हम जीतना चाहते थे। लेकिन हम रन नहीं बना सके। इस हार को भुलाना आसान नहीं होगा।’’