शिखर धवन और महेंद्र सिंह धोनी © Getty Images
शिखर धवन और महेंद्र सिंह धोनी © Getty Images

श्रीलंका के खिलाफ 132 रनों की शानदार पारी खेलने के बाद शिखर धवन ने बड़ा बयान दिया है। धवन ने कहा, ”अगर भारतीय टीम में अपनी जगह बचानी है तो मुझे लगातार अच्छा खेल दिखाते रहना होगा। बेहतरीन खेलना ही मेरा लक्ष्य होना चाहिए क्योंकि अगर मैं ऐसा नहीं कर सका तो हमारी टीम में कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो मेरी जगह ले सकते हैं। असफलता आपको कई चीजें सिखाती है। मैं काफी भाग्यशाली हूं कि मुझे असफलताओं से काफी कुछ सीखने को मिला। मैं जब टीम से बाहर था तो मैं हमेशा यही सोचता रहता था कि मैं कब वापसी करूंगा।” ये भी पढ़ें: इस बड़े रिकॉर्ड को बनाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने शिखर धवन

श्रीलंका टीम के लगातार खराब प्रदर्शन पर धवन ने कहा, ”श्रीलंका की टीम काफी युवा है और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अनुभव काफी मायने रखता है। जैसे-जैसे ये टीम खेलेगी वैसे-वैसे प्रदर्शन में सुधार भी आएगा। उनके पास अच्छा गेंदबाजी आक्रमण है। चैंपियंस ट्रॉफी में भी उनकी टीम ने हमें हरा दिया था। मुझे लगता है कि हमारी टीम ज्यादा अनुभवी है और इसी का हमें सबसे ज्यादा फायदा मिल रहा है। जब भी टीम दबाव में होती है तो अनुभव ही आपके काम आता है और मेरा मानना है कि समय के साथ-साथ श्रीलंका के प्रदर्शन में सुधार जरूर आएगा।”

हाल ही में भारतीय टीम मैनेजमेंट खिलाड़ियों की फिटनेस पर काफी ध्यान दे रहा है। इसपर धवन ने कहा, ”मैं चाहता हूं कि मैं अपनी फिटनेस अच्छी रखूं। मैं अपनी फिटनेस पर खासा ध्यान देता हूं और फिटनेस के जरिये ही मैं अच्छा खेल पा रहा हूं।” आपको बता दें कि श्रीलंका के खिलाफ पहले वनडे मैच में धवन सिर्फ 71 गेंदों में शतक लगाकर श्रीलंका में सबसे तेज शतक लगाने वाले भारतीय खिलाड़ी बन गए।

धवन ने शानदार खेल दिखाते हुए बेहतरीन बल्लेबाजी की और अपने वनडे करियर का 7वां शतक ठोका। धवन ने 71 गेंदों में 140 के स्ट्राइक रेट के साथ बल्लेबाजी करते हुए शतक लगाया। धवन ने शतक लगाने के दौरान 16 चौके और 2 छक्के ठोके। धवन अंत तक आउट नहीं हुए और उन्होंने 90 गेंदों में धमाकेदार नाबाद 132 रनों की पारी खेली। धवन ने अपनी पारी में 20 चौके और 3 छक्के जड़े।