भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली की मैदान पर आक्रमकता जगजाहिर है. मैच के दौरान कोहली से अगर विपक्षी खिलाड़ी उलझता है तो वे उसे छोड़ते नहीं हैं. कई बार कोहली और विपक्षी टीम के खिलाड़ियों के बीच शाब्दिक जंग देखने को मिलते हैं. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान राशिद लतीफ ने विपक्षी टीमों को कोहली से ना उलझने की सलाह दी है. लतीफ ने ये बात यू-ट्यूब चैनल पर 2014 में ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच खेली गई उस टेस्ट सीरीज का हवाला देकर कहा है जिसमें कोहली ने महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास के बाद कप्तानी संभाली थी.

कोरोनावायरस की भेंट चढ़ा चेतेश्वर पुजारा का Gloucestershire काउंटी चैंपियनशिप करार

सीरीज के आखिरी मैच में भारत हार गया था लेकिन 364 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए वह जीत के काफी करीब भी आया था. कोहली ने इस मैच में बतौर कप्तान 141 रन बनाए थे. पहली पारी में भी उन्होंने 115 रन की पारी खेली थी.

इस मैच में ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज खासकर मिशेल जॉनसन कोहली पर लगातार स्लेजिंग कर रहे थे. बकौल लतीफ, ‘2014 सीरीज में जब धोनी ने दो टेस्ट मैचों के बाद संन्यास ले लिया था तब एक टेस्ट मैच बचा था. इसमें विराट कोहली ने दो शतक बनाए थे. इस मैच में जॉनसन कोहली को परेशान कर रहे थे और दोनों के बीच ठीक-ठाक स्लेजिंग चल रही थीं. आप जब क्लिप को देखेंगे तो समझ जाएंगे. कोहली की प्रतिक्रिया रक्षात्मक नहीं थी.’

शोएब अख्तर के भारत-पाक वनडे सीरीज के प्रस्ताव पर जहीर अब्बास ने तोड़ी चुप्पी, दिया बड़ा बयान

पूर्व विकेटकीपर ने कहा, ‘कुछ खिलाड़ी ऐसे होते हैं जिनसे आप पंगा नहीं ले सकते. हमारे पास जावेद मियांदाद थे, विवियन रिचडर्स, सुनील गावस्कर थे और आज ऐसे ही खिलाड़ी कोहली हैं.’

लतीफ ने हाल ही में विंडीज और भारत के बीच खेली गई टी-20 सीरीज का हवाला दिया है जिसमें विंडीज के तेज गेंदबाज केसरिक विलियम्स के नोटबुक सेलिब्रेशन को जवाब दिया था. गौरतलब है कि इस समय कोरोनावायरस के कारण सभी खिलाड़ी अपने घरों में कैद होने को मजबूर हैं.