इंग्लैंड (England) के खिलाफ विश्व कप फाइनल में सुपर ओवर में हारने के बाद से न्यूजीलैंड (New Zealand) टीम और सुपर ओवर के बीच 36 का आंकड़ा बन गया है, लेकिन न्यूजीलैंड के लिए सुपर ओवर से भी बड़ा दुश्मन है 20वां ओवर। न्यूजीलैंड टीम ने भारत के खिलाफ खेले तीसरे और चौथे टी20 मैच लगभग जीत लिए थे लेकिन आखिरी ओवर में कीवी बल्लेबाजों को जाने क्या हो जाता है कि वो एक रन बनाने से चूक जाते हैं।

हेमिल्टन में मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) ने न्यूजीलैंड टीम को बराबर के स्कोर पर रोका था और वेलिंगटन में ये कारनामा शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) ने किया। अब युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) की मशहूर चहल टीवी पर इन दो तेज गेंदबाजों ने आखिरी ओवर का राज खोला।

शमी को यॉर्कर पर भरोसा

शमी ने कहा, “मैं अच्छी यॉर्कर गेंदें फेंकने की कोशिश कर रहा था। मैंने पहली गेंद पर यही कोशिश की लेकिन गेंद हाथ से छूट गए और छक्का चला गया। इसके बाद मेरे पास कुछ बचा नहीं था। मैं सोच रहा था कि खाली गेंदें कैसे निकालूं। मुझे लगा कि हम पहले ही हार चुके हैं। इसलिए मैंने सोचा कि कुछ बाउंसर डालने की कोशिश करता हूं। विलियमसन आउट हो गए। मुझे लगा छोटी गेंद काम करेगी। स्कोर जब बराबर हो चुका था तो मेरे पास एक ही विकल्प बचा था कि मैं गेंद खाली निकालूं इसलिए मैं यॉर्कर के लिए गया और वो सफल रही।”

बड़ा शॉट खाने से डरते नहीं हैं शार्दुल

वहीं ठाकुर ने कहा, “काफी सारा दबाव था। मैं पहली गेंद से ही विकेट लेने की कोशिश कर रहा था। बल्लेबाज आमतौर पर चौका या छक्का मारने की कोशिश करता है और मैच को जल्दी खत्म करना चाहता है। मैंने सोचा था कि मैं धीमी गेंद डालूंगा और बल्लेबाज को बड़ा शॉट मारने के लिए उकसाऊंगा। प्लान काम कर गया।”

न्यूजीलैंड में धोनी को ढूंढ रहे हैं फैंस लेकिन परिवार के साथ इस जगह घूम रहे हैं कैप्टन कूल

उन्होंने कहा, “दूसरी गेंद पर जब चौका पड़ा तो मैं परेशान हो गया लेकिन मैंने उम्मीद नहीं छोड़ी। हमने देखा था कि शमी भाई ने पहली गेंद पर छक्का खाने के बाद वापसी की थी और तीन गेंदों पर पांच रन बचाए थे। ये तब हुआ तो ये दोबारा भी हो सकता है।”