Shreyas Iyer: Feel I was raw when I first played for India but improved now
श्रेयस अय्यर (AFP)

दो साल पहले भारतीय टीम के लिए डेब्यू करने के बावजूद मध्य क्रम बल्लेबाज श्रेयस अय्यर टीम में अपनी जगह पक्की नहीं कर पाए हैं। अय्यर का मानना है कि टीम इंडिया के लिए पहली बार खेलते समय वो अपरिपक्व खिलाड़ी थे। लेकिन अब उनके खेल में काफी सुधार आ चुका है जिसका नमूना भारत के वेस्टइंडीज दौरे पर देखने को मिल सकता है।

हिंदुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में अय्यर ने कहा, “अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट अलग ही संघर्ष है। मैं पीछे मुड़कर देखता हूं तो मुझे लगता है कि जब मैं पहली बार भारत के लिए खेला था तो मैं काफी अपरिपक्व था। मेरे सामने सीखने, खुद को स्थिति के हिसाब से ढालने और परिपक्व होने के लिए बहुत कुछ बाकी था, जो कि अब मुझमें है, ऐसा मुझे लगता है।”

अय्यर ने आगे कहा, “बतौर बल्लेबाज मैंने सुधार किया है। बतौर कप्तान, जब भी और जहां भी मुझे मौका मिला है- चाहे मुंबई के लिए हो, दिल्ली कैपिटल्स के लिए या इंडिया ए के लिए, मैं विकसित हुआ हूं। अब मेरे पास फिर से देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका है, मैं इसका फायदा उठाना चाहता हूं।”

टीम से अंदर बाहर होने से मनोबल गिरता है : श्रेयस अय्यर

अय्यर नवंबर, 2017 में पहली बार भारतीय जर्सी में नजर आए थे, जब उन्होंने दिल्ली में न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 मैच खेला था। पहले मैच में अय्यर को बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला था।

भारत के लिए अब तक खेले 12 मैचों (6 वनडे, 6 टी20) में अय्यर ने केवल दो अर्धशतक बनाए हैं। अय्यर आखिरी बार दक्षिण अफ्रीका दौरे पर खेली गए वनडे सीरीज में नजर आए थे। जिसके बाद से वो भारतीय सीमित ओवर फॉर्मेट स्क्वाड से बाहर हैं। विश्व कप स्क्वाड के चयन में भी उन्हें अनदेखा किया था लेकिन वेस्टइंडीज दौरे पर जाने वाली टीम में उनकी वापसी हुई है।

नेपाल को हरा सिंगापुर ने टी20 वर्ल्‍ड कप क्‍वालीफायर में पक्‍की की जगह

भारतीय टीम 29 जुलाई को वेस्टइंडीज दौरे के लिए रवाना हो चुकी है। सीरीज का पहला टी20 मैच 3 अगस्त को फ्लोरिडा में खेला जाएगा।