तमिलनाडु के ऑफस्पिनर वाशिंगटन सुंदर (Washington Sundar) का कहना है कि टी20 क्रिकेट में पावरप्ले स्पेशलिस्ट गेंदबाज जैसे मुश्किल भूमिका उन्हें उत्साहित करती है। सुंदर को वेस्टइंडीज के खिलाफ आगामी टी20 सीरीज के लिए टीम इंडिया में जगह मिली है।

ईएसपीएनक्रिकइंफो को दिए इंटरव्यू में इस गेंदबाज ने कहा, “टी20 में ये (पावरप्ले स्पेशलिस्ट गेंदबाज) मुश्किल भूमिका है। सही लेंथ पर गेंदबाजी करनी बेहद मुश्किल है और गलती होने की संभावना रहती है। ये मुश्किल काम है, लेकिन ये ऐसी चीज है जो मुझे उत्साहित भी करती है।”

पावरप्ले में गेंदबाजी करने की चुनौतियों पर इस खिलाड़ी ने कहा, “पावरप्ले में दाएं और बाएं हाथ के बल्लेबाजों को गेंदबाजी करना चुनौतीपूर्ण होता है और दो-तीन साल पहले जब से मुझे टी20 में ये भूमिका मिली थी, तब से मैंने इसका आनंद ले रहा हूं।”

हम अंडरडॉग जरूर लेकिन अपनी प्रतिभा के दम पर खेलें तो कुछ भी असंभव नहीं : पोलार्ड

सुंदर ने बताया कि राष्ट्रीय टीम में आने के बाद उनके लिए कोई नई भूमिका नहीं थी, उन्होंने चेन्नई में लोअर-डिवीडन लीगों के साथ ही नई बॉल के साथ गेंदबाजी करना शुरू कर दिया था।

हाल ही में भारत के लिए बांग्लादेश के खिलाफ टी20 सीरीज में शानदार प्रदर्शन करने वाले सुंदर ये सीरीज खत्म करने के तुरंत बाद तमिलनाडु के लिए सैयद मुश्ताल अली टूर्नामेंट में हिस्सा लेने पहुंच गए थे। सुंदर, जिन्होंने करियर की शुरुआत बल्लेबाजी ऑलराउंडर के तौर पर की थी, वो तमिलनाडु के लिए नंबर तीन पर बल्लेबाजी करते दिखे।

न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज हारने के बाद बोले जो रूट- इससे सबक लेंगे जोफ्रा आर्चर

इस पर सुंदर ने कहा, “मैं केवल मौका मिलने पर टीम को जीत दिलाने में योगदान देना चाहता हूं। मैं खुद को सुधरते हुआ ऑलराउंडर केवल तब भी समझूंगा जब मैं टीम को मैच जिता सकूं। केवल इसी से खिलाड़ी को आत्मविश्वास मिलता है। इललिए मुझे जब भी मौका मिलता है, चाहे गेंद से हो या बल्ले से मैं अच्छा करने की कोशिश करता हूं।”