Cheteshwar Pujara’s century rescues India after top-order collapse
Cheteshwar Pujara @ians

भारतीय क्रिकेट टीम के मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने एडिलेड टेस्ट की पहली पारी में शानदार शतक बनाकर टीम को मुश्किल से निकाला। टॉप ऑर्डर के नाकाम रहने के बाद भी भारतीय टीम 250 रन के स्कोर तक पहुंचने में कामयाब रही तो इसकी वजह पुजारा की शतकीय पारी थी।

पढ़ें:- टॉप ऑर्डर को बेहतर बल्लेबाजी करनी चाहिए थी: पुजारा

चेतेश्वर पुजारा ने ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाजों के सामने अकेले ही डटकर टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया। पहले दिन भारतीय टीम को 41 रन तक चार झटके लग चुके थे। लोकेश राहुल, मुरली विजय, विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे के आउट होने के बाद भी पुजारा ने एक छोर संभाकर रखा।

पुजारा का शानदार शतक

जुझारू पारी खेलने के लिए जाने जाने वाले पुजारा ने एडिलेड में भी एक संघर्षपूर्ण शतकीय पारी खेली। पुजारा ने 231 गेंद का सामना करने के बाद अपने 100 रन पूरे किए। यह पुजारा के टेस्ट करियर का 16वां शतक है। 246 गेंद खेलने के बाद 123 रन बनाकर पुजारा दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से रन आउट हुए।

पुजारा की छोटी साझेदारी ने किया बड़ा काम

एडिलेड टेस्ट के पहले दिन पुजारा ने 5 छोटी लेकिन अहम साझेदारी निभाई। रोहित शर्मा के साथ पुजारा ने 45, रिषभ पंत के साथ 41, आर अश्विन के साथ 62 जबकि मोहम्मद शमी के साथ मिलकर भारत के लिए 40 रन की बहुमूल्य साझेदारी की।

इंग्लैंड में भी खेली थी ऐसी ही पारी

साउथम्पटन में खेले गए चौथे टेस्ट में भी पुजारा ने ऐसी ही संयम भरी पारी से टीम को मुश्किल से निकाला था। शिखर धवन, केएल राहुल, विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे पचास रन के आंकड़े तक नहीं पहुंच पाए और पुजारा ने 132 रन की पारी खेली थी। इस पारी में उन्होंने 257 गेंद का सामना कर 355 मिनट तक क्रीज पर वक्त बिताया।