Rahim Karim is manager of Delhi Nights, who claim to fame being taking Sachin Tendulkar’s catch during an exhibition match
Sachin Tendulkar @IANS

दुनिया के महानतम क्रिकेटर्स में शुमार सचिन रमेश तेंदुलकर के साथ खेलना, उनको गेंदबाजी करना और उनका विकेट हासिल करना हर एक खिलाड़ी सपना था। सचिन के साथ जिन्होंने भी खेला चाहे वो साथी हो या फिर विरोधी खुद को खुशनसीब मानता है।

इन दिनों आईसीसी विश्व कप का आयोजन इंग्लैंड एंड वेल्स में हो रहा है। इंग्लैंड की टीम फाइनल में पहुंची है और पहली बार वह विश्व कप चैंपियन बनने से महज एक कदम दूर है। विश्व कप कवर कर रहे क्रिकेट कंट्री के रिपोर्टर ने फाइनल मुकाबले से पहले एक ऐसे इंग्लिश क्रिकेटर से मुलाकात की जो इन दिनों नॉटिंघम में दिल्ली नाइट्स के नाम का रेस्टोरेंट चला रहा है।

पढ़ें:- आदिल राशिद बोले- मोर्गन ने हमेशा मुझपर भरोसा जताया

रहीम करीम जो साल 1999 में एक प्रदर्शनी मैच के दौरान सचिन तेंदुलकर का कैच लेने की वजह से चर्चा में आए थे, आज भी उस पल को यादकर गर्व महसूस करते हैं। रहीम ने बताया, ”जब मैं युवा था तो काफी क्लब क्रिकेट खेला है। इस दौरान मैंने कई फर्स्ट क्लास और इंटरनेशनल क्रिकेटर के साथ खेला। इसमें माइकल आर्थटन, मार्क बुचर और मार्क रामप्रकाश के नाम शामिल है।”

भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाफ खेलने के अनुभव को साझा करते हुए रहीम ने बताया कि तमाम दिग्गजों के साथ खेलने का मौका मिलना कमाल रहा। ”आखिरी बार विश्व कप के आस पास का ही समय था जब मैंने भारत के खिलाफ एक प्रदर्शनी मैच खेला था। आपके तेंदुलकर, गांगुली और द्रविड़ के खिलाफ मुझे खेलना का मौका मिला था, प्रसाद और श्रीनाथ भी मौजूद थे। मैं लेस्टरशायर की तरफ से अंडर 21 टीम का हिस्सा था। लेस्टरशायर के खिलाफ जब भारत का वार्म अप मैच बारिश की वजह से धुल गया तो हमें खेलने का मौका मिला। यह हमारे लिए काफी अच्छा अनुभव था, भारत तो बिल्कुल मैच जीतने वाला था। हमारे पास मौका था कि उनको बता सकें कि हम कितने अच्छे हैं।”

Rahim Karim (AFP Image)

”उनके साथ खेलना काफी सम्मान की बात थी, वो बहुत ही शानदार थे। मेरे लिए यह एक उपलब्धि है कि कह सकता हूं, मैंने सचिन के खिलाफ खेला, उनके खिलाफ गेंदबाजी की है। उन्होंने वाकई बहुत शानदार बल्लेबाजी की, मेरे प्रदर्शन की बात करें तो विकेटकीपर ने मेरी गेंद पर उनका कैच छोड़ा था। आखिरी में मैंने उनका कैच पकड़ा था।”

”सचिन की बल्लेबाजी के बारे में रहीम ने कहा, मुझे बस इतना याद है कि उनको मैंने 12 गेंद डाले थे और उन्होंने चार लगातार चौके लगाए थे। मेरे दिमाग में तो बस उसी वक्त मेरा करियर खत्म हो गया था।”