World Cup Countdown: Five most capped players in world cup history
Tendulkar, Ponting, Jayawardene, Mcgrath

क्रिकेट का ‘महाकुंभ’ यानी आईसीसी विश्‍व कप के 12वें संस्‍करण का आगाज 30 मई से इंग्‍लैंड एंड वेल्‍स में होने जा रहा है। 10 टीमें विश्‍व चैंपियन बनने के लिए जोर-आजमाइश करती हुई दिखाई देंगी। अब तक 11 विश्‍व कप आयोजित हो चुके हैं और इस दौरान कई रिकॉर्ड बन चुके हैं।

विश्‍व कप में सबसे अधिक मैच खेलने वाले उन 5 खिलाड़ियों पर डालते हैं एक नजर:

रिकी पोंटिंग (ऑस्‍ट्रेलिया)- 46 मैच

ऑस्‍ट्रेलिया को अपनी कप्‍तानी में लगातार दो बार विश्‍व चैंपियन बनाने रिकी पोंटिंग ने पहली बार 1996 के विश्‍व कप में हिस्‍सा लिया था। पोंटिंग ने विश्‍व कप के  अपने करियर में कुल 46 मैच खेले। वो वर्ल्‍ड कप में सबसे अधिक मैच खेलने वाले खिलाड़ी हैं। उन्‍होंने 45.86 की औसत से कुल 1,743 रन बनाए हैं।

पढ़ें: पिछले 4 साल में रोहित, धवन, कोहली ने लगाया रनों का अंबार

पोंटिंग ने वर्ष 2003 और 2007 में दो बार लगातार ऑस्‍ट्रेलिया को वर्ल्‍ड चैंपियन बनाया। उन्‍होंने 2003 के वर्ल्‍ड कप में 11 मैच खेले जिसमें 51.87 के शानदार औसत से कुल 415 रन बनाए। इस दौरान उन्‍होंने दो शतक और एक अर्धशतक लगाया। इस दौरान उनका बेस्‍ट स्‍कोर नाबाद 140 रन रहा जो उन्‍होंने भारत के खिलाफ फाइनल में खेली थी। पोंटिंग इस पारी को वनडे करियर की बेस्‍ट पारियों में से एक मानते हैं।

पढ़ें: ‘1983, 2011 के प्रदर्शन को इस विश्‍व कप में फिर दोहराएगा भारत’

ऑस्‍ट्रेलिया के इस पूर्व कप्‍तान के लिए इसके बाद 2007 में वेस्‍टइंडीज में आयोजित विश्‍व कप रहा। इस विश्‍व कप में पोंटिंग ने 11 मैचों में 67.37 की औसत से कुल 539 रन जुटाए। पोंटिंग की अगुवाई में ऑस्‍ट्रेलिया की टीम यहां भी विश्‍व चैंपियन बनी। दाएं हाथ के पूर्व बल्‍लेबाज पोंटिंग की कप्‍तानी में ये दूसरा जबकि ऑस्‍ट्रेलिया का कुल तीसरा विश्‍व कप खिताब था।

सचिन तेंदुलकर (भारत) – 45 मैच

मास्‍टर ब्‍लास्‍टर सचिन तेंदुलकर ने वर्ल्‍ड कप में कुल 45 मैच खेले हैं। वर्ल्‍ड कप के रिकॉर्ड लिस्‍ट में ये संभवत: पहली बार है जब उन्‍हें दूसरे स्‍थान पर रहना पड़ा हो। तेंदुलकर के नाम सर्वाधिक वर्ल्‍ड कप खेलने का रिकॉर्ड है। इसके अलावा सबसे अधिक सेंचुरी और सबसे अधिक रन बनाने का रिकॉर्ड भी उन्‍हीं के नाम है।

तेंदुलकर ने अपना पहला वर्ल्‍ड कप मैच वर्ष 1992 में खेला था। इस दौरान उन्‍हें 8 मैच खेलने को मिला जिसमें उन्‍होंने 283 रन जुटाए। इसके चार साल बाद यानी 1996 में तेंदुलकर ने रनों का पहाड़ खड़ा कर दिया। उन्‍होंने 7 मैचों में कुल 523 रन बनाए।

1999 के वर्ल्‍ड कप में सचिन ने थोड़ा निराश किया। 7 मैचों में उनके बल्‍ले से सिर्फ 253 रन ही निकले। 2003 वर्ल्‍ड कप में सचिन ने फिर रनों की बारिश की। 11 मैचों में 673 रन बनाकर सचिन ने टीम इंडिया को फाइनल तक का सफर कराया।

पढ़ें: 22 मई को इंग्लैंड रवाना होगी टीम, फॉर्म में सभी स्टार खिलाड़ी

2007 के विश्‍व कप में तेंदुलकर ने महज 3 मैच खेले और भारतीय टीम वर्ल्‍ड से बाहर हो गई। पहले राउंड में ही टीम इंडिया का बाहर होना बड़ा झटका था। तेंदुलकर के अंतिम वर्ल्‍ड कप यानी 2011 में टीम इंडिया ने दूसरी बार विश्‍व चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया।

इस दौरान सचिन ने 9 मैचों में 2 शतकों के साथ कुल 482 रन जुटाए।

माहेला जयवर्धने (श्रीलंका) – 40 मैच

श्रीलंका की ओर से सबसे अधिक वनडे इंटरनेशनल मैच खेलने वाले पूर्व कप्‍तान माहेला जयवर्धने ने वर्ल्‍ड कप में कुल 40 मैच खेले हैं। जयवर्धने अपने क्रिकेट करियर में 5 वर्ल्‍ड कप में खेल चुके हैं। 40 मैचों में उन्‍होंने 35.48 की औसत कुल 1,100 रन बनाए हैं।

1999 में पहली बार वर्ल्‍ड कप में खेलने वाले जयवर्धने ने चार मैचों में 102 रन बनाए थे। इसके चार साल बाद उनका प्रदर्शन बेहद खराब रहा। उन्‍होंने 9 मैचों में महज 21 रन ही बनाए। 2007 के वर्ल्‍ड कप में श्रीलंकाई टीम श्रीलंका में आयोजित इस महाकुंभ के फाइनल में पहुंची थी। इस टूर्नामेंट में जयवर्धने ने 11 मैचों में 548 रन बनाए थे। इस दौरान उनका औसत 60 का रहा था।

जयवर्धने ने अपना अंतिम वर्ल्‍ड कप 2015 में खेला था। इस दौरान उन्‍होंने 7 मैचों में 125 रन बनाए थे। श्रीलंकाई टीम को सेमीफाइनल में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था।

मुथैया मुरलीधरन (ऑस्‍ट्रेलिया) 40 मैच

वनडे इंटरनेशनल मैचों में सर्वाधिक विकेट अपने नाम करने वाले श्रीलंका के दिग्‍गज मुथैया मुरलीधरन ने वर्ल्‍ड कप में कुल 68 विकेट अपने नाम किए हैं। वर्ल्‍ड कप में सबसे अधिक विकेट लेने के मामले में मुरलीधरन दूसरे नंबर पर हैं।

पढ़ें: मेरे पास सभी अहम ट्रॉफी, संन्यास से पहले विश्व कप मेडल जीतना है- स्टेन

मुरलीधरन ने 1996 और 1999 के वर्ल्‍ड कप के 11 मैचों में केवल 13 विकेट लिए थे। इसके बाद 2003 वर्ल्‍ड कप में में मुरली के खाते में 10 मैचों में 17 विकेट दर्ज हो गए।

2007 में विंडीज में आयोजित वर्ल्‍ड कप में मुरलीधरन ने 10 मैचों में 23 विकेट अपने नाम किए थे। मुरलीधरन की करिश्‍माई गेंदबाजी की बदौलत श्रीलंकाई टीम लगातार दूसरी बार वर्ल्‍ड के फाइनल में पहुंची थी। मुरलीधरन ने अपने अंतिम वर्ल्‍ड कप में 9 मैचों में 15 विकेट अपने नाम किए थे।

ग्‍लेन मैक्‍ग्रा (ऑस्‍ट्रेलिया)- 39 मैच

ऑस्‍ट्रेलिया के महान तेज गेंदबाज ग्‍लेन मैक्‍ग्रा के नाम वर्ल्‍ड कप में सबसे अधिक विकेट लेने का रिकॉर्ड है। ऑल टाइम महान गेंदबाजों में से एक मैक्‍ग्रा ने वर्ल्‍ड कप में अब तक 39 मैच खेले हैं जिसमें उनके नाम 71 विकेट दर्ज हैं।

पढ़ें: ‘बताने की जरूरत नहीं हम बेस्ट हैं या नहीं, प्रदर्शन बोलता है’

मैक्‍ग्रा को 1996 के वर्ल्‍ड कप में महज 6 मैच ही खेलने को मिले जिसमें उन्‍होंने 6 विकेट झटके। ये मैक्‍ग्रा का पहला वर्ल्‍ड कप था। इसके तीन साल बाद इस गेंदबाज ने ऑस्‍ट्रेलिया को दूसरी बार चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाई। मैक्‍ग्रा ने 1999 के वर्ल्‍ड कप में कुल 18 बल्‍लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाई।

साल 2003 के वर्ल्‍ड कप में मैक्‍ग्रा की गेंदबाजी और निखरकर सामने आाई जब उन्‍होंने 11 मैचों में 21 विकेट अपने नाम किए। विंडीज में आयोजित विश्‍व कप मैक्‍ग्रा का अंतिम वर्ल्‍ड कप रहा जिसमें उन्‍होंने 11 मैचों में 26 विकेट चटकाए। ऑस्‍ट्रेलिया टीम का ये चौथा विश्‍व कप खिताब था।