India vs Australia 2nd Test: Ishant Sharma takes jibe at Australian media on ‘no ball’ question
ishant-sharma (File Photo) © Getty Images

भारतीय तेज गेंदबाज इशांत शर्मा  ने पर्थ टेस्ट मैच के दूसरे दिन का खेल समाप्त होने के बाद ‘फ्रंट-फुट नो बॉल’ की चर्चा पर ऑस्ट्रेलियाई मीडिया को आड़े हाथों लिया।

इशांत ने पहले टेस्ट में कुछ नो बॉल फेंकी थी जिस पर मैदानी अंपायरों का ध्यान नहीं गया। जबकि इसके कारण भारत दो मौकों पर विकेटों से भी महरूम रह गया, लेकिन मेजबान देश को यह बात पसंद नहीं आई।

पढ़ें: पर्थ टेस्ट: कोहली-रहाणे की धमाकेदार साझेदारी, दूसरे दिन भारत 172/3

इशांत ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा, ‘शायद ऑस्ट्रेलियाई मीडिया को इस सवाल का जवाब देना चाहिए, मुझे नहीं। मैं इतने लंबे समय से क्रिकेट खेल रहा हूं। इस तरह की चीजें होती हैं। आप भी इंसान हो, आपसे गलती हो सकती है। मैं इसके बारे में जरा भी चिंतित नहीं था।’

‘हमें विराट पर भरोसा रहता है’

उन्होंने कहा कि विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे का जवाबी हमला अहम रहा जिससे भारत ने ऑस्ट्रेलिया के पहली पारी में 326 रन के जवाब में तीन विकेट पर 172 रन बना लिए।

इशांत ने कहा, ‘जब भी विराट बल्लेबाजी कर रहे होते हैं तो हमें भरोसा रहता है। हमने दिन का समापन अच्छी तरह किया। उम्मीद है कि ये दोनों इसी तरह बल्लेबाजी करते रहेंगे। मैच में इस समय संतुलन बना हुआ है। उम्मीद है कि कल हम पहले सत्र में दबदबा बनाए रखेंगे।’

कोहली के नाबाद 82 रन और अजिंक्य रहाणे के नाबाद 51 रन से भारत ने मुरली विजय (शून्य) और लोकेश राहुल (02) के विकेट सस्ते में गंवाने के बाद वापसी की।

पढ़ें: चार दिवसीय टेस्ट फॉर्मेट को लेकर खुले दिमाग से सोचे: केविन रॉबर्ट्स

उन्होंने कहा, ‘रहाणे ने तेजी से 20-30 रन बनाए और उस समय इनकी सचमुच काफी जरूरत थी। अगर वे डिफेंसिव होकर खेलते तो शायद ऑस्ट्रेलिया अपनी योजना पर बरकरार रहती लेकिन उनका जवाबी हमला करना अहम था जिससे उसने उन्हें रणनीति बदलने को बाध्य कर दिया।’

‘पुजारा गेंदबाजों को थका देते हैं’

इससे पहले कोहली ने चेतेश्वर पुजारा के साथ तीसरे विकेट के लिए 74 रन जोड़े।

इशांत ने कहा, ‘जब पुजारा डिफेंसिव होकर खेलते हैं तो गेंद स्क्वायर से बाहर नहीं जाती। मैं उनके खिलाफ खेल चुका हूं और मैं जानता हूं कि उन्‍हें गेंदबाजी करना कितना मुश्किल है। वह गेंदबाजों को थका देते हैं। मैं जानता हूं कि अगर वह क्रीज पर रहते हैं तो वह बेहतरीन कर सकते हैं। वह जिस तरह से आउट हए, वह दुर्भाग्यपूर्ण रहा। हमें ऐसे खिलाड़ियों के विकेट इतनी आसानी से नहीं मिलते।’

(इनपुट-एजेंसी)