India vs Australia,3rd Test: India to consider playing Hardik Pandya in Melbourne; Michael Hussey
Hardik-Pandya © Getty Image (file image)

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज माइकल हसी का कहना है कि मेलबर्न में होने वाले तीसरे टेस्ट मैच के लिए परिस्थितियां पर्थ की तुलना में बहुत भिन्न होंगी।

हसी के मुताबिक भारत को अपने आक्रमण में संतुलन लाने के लिए हार्दिक पांड्या  को प्‍लेइंग इलेवन में शामिल करने पर विचार करना चाहिए।

पढ़ें: मेलबर्न रेनेगेड्स ने धमाकेदार जीत के साथ की शुरुआत

तीसरा टेस्ट मैच 26 दिसंबर से मेलबर्न में खेला जाएगा। एमसीजी की पिच पर सभी की निगाह टिकी है क्योंकि पिछले साल यहां इंग्लैंड के खिलाफ मैच ड्रॉ खेला गया था और आईसीसी भी इसकी पिच को लेकर खुश नहीं थी।

हसी ने कहा, ‘पर्थ की परिस्थितियां काफी अनूठी हैं और मेलबर्न में परिस्थितियां पूरी तरह से भिन्न होंगी। मेरा मानना है कि भारतीय तेज गेंदबाजी इकाई ने इस सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने एडिलेड और पर्थ में गर्मी में भी काफी गेंदबाजी की।’

पढ़ें: सिडनी थंडर ने होबार्ट हरिकेंस को 6 विकेट से हराया

उन्होंने कहा, ‘वह (पांड्या) जब फॉर्म में होते हैं तो काफी हद तक मिशेल मार्श जैसा प्रदर्शन करते हैं। आपके पास गेंदबाजी में अतिरिक्त विकल्प होना चाहिए जो आपके तेज गेंदबाजों का भार कुछ कम कर सके विशेषकर चार मैचों की सीरीज में। इसलिए दोनों टीमों को (गेंदबाजी ऑलराउंडर) के विकल्प पर गौर करना चाहिए।’

‘दोनों टीमों के गेंदबाजों ने अब तक अच्‍छा प्रदर्शन किया है’

माइकल हसी ने कहा कि दोनों टीमों के गेंदबाजों ने अब तक अच्छा प्रदर्शन किया है। भारत पर्थ में चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरा था और हसी ने कहा कि टीम को रविचंद्रन अश्विन की कमी खली जबकि नाथन लियोन ने अपनी टीम को जीत दिलाई।

उन्होंने कहा कि अगर भारतीय सलामी जोड़ी का खराब प्रदर्शन जारी रहता है तो फिर चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे को अधिक जिम्मेदारी संभालनी होगी ताकि विराट कोहली के ऊपर निर्भरता में संतुलन पैदा किया जा सके।

हसी ने कहा, ‘भारत के दोनों सलामी बल्लेबाज अच्छे खिलाड़ी हैं लेकिन वे नहीं चल पा रहे हैं। कुछ अवसरों पर ऐसा होता है जब चीजें आपके अनुरूप नहीं होती हैं।’

‘कोहली पर भरोसा करना गलत नहीं’

हसी से पूछा गया कि क्या भारत कोहली के प्रदर्शन पर बहुत अधिक निर्भर है, उन्होंने कहा, ‘कोहली दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं। इसलिए भारत उन पर भरोसा कर सकता है जिसमें कुछ भी गलत नहीं है। अगर ऑस्ट्रेलिया की तरफ से स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर खेल रहे होते तो उन पर काफी निर्भर होता।’

पढ़ें: आईपीएल में लय हासिल कर विश्व कप 2019 में धमाकेदार वापसी करना चाहते हैं स्टीव स्मिथ

उन्होंने कहा, ‘भारत की तरफ से पुजारा ने एडिलेड में शानदार प्रदर्शन किया तथा रहाणे ने टुकड़ों में अच्छा खेल दिखाया। आप हमेशा अपने सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज पर भरोसा करते हो लेकिन दूसरे टेस्ट मैच में अतिरिक्त तेज गेंदबाज होने से भारतीय निचला क्रम लंबा हो गया और इससे बल्लेबाजी संतुलन गड़बड़ा गया।’

(इनपुट-एजेंसी)