एमएस धोनी © Getty Images
एमएस धोनी © Getty Images

एमएस धोनी ने 4 जनवरी 2017 को सीमित ओवरों की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था। ये एक ऐसा औचक निर्णय था जिसने पूरे क्रिकेट जगत को चौंका दिया था। गौर करने वाली बात है कि यह पहला मौका नहीं था जब धोनी ने अपने यकायक लिए गए फैसले से क्रिकेटप्रेमियों को चौंकाया हो बल्कि साल 2014 में भी उन्होंने ऑस्ट्रेलिया दौरे के बीच में टेस्ट कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था, और उनके इस निर्णय को सुनकर पूरा क्रिकेट जगत स्तब्ध रह गया था। चूंकि, धोनी अपनी रणनीतियों के बारे में किसी को कानों- कान खबर नहीं लगने देते। ऐसे में कुछ बातें हाल – फिलहाल में निकलकर आई हैं कि वह आने वाले समय में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को पूरी तरह से अलविदा कह सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि जब टीम इंडिया ने बैंगलुरू टी20I में इंग्लैंड को 75 रनों से हराया तो उसके पहले धोनी को तोहफे के तौर पर एक फ्रेम्ड फोटोग्राफ दिया गया जिसमें उनके द्वारा जीती गईं मुख्य ट्रॉफियों की फोटोज को दर्शाया गया था। इनमें 2007 वर्ल्ड टी20, आईसीसी टेस्ट गदा जो 2009 में दिया गया था, 2011 विश्व कप ट्रॉफी और 2013 चैंपियंस ट्रॉफी शामिल थी। इस दौरान बीसीसीआई ने मैच के पहले धोनी और टीम के खिलाड़ियों का एक ग्रुप फोटो ट्वीट किया था। जिसमें लिखा था, “प्रेरणादायक। सर्वोत्कृष्ण कप्तान। शुक्रिया- #टीमइंडिया।”

 

वहीं भारतीय क्रिकेट टीम ने वह फोटो पोस्ट की थी। जिसमें लिखा था, “टीम इंडिया पूर्व कप्ताम एमएस धोनी को उनके बेहतरीन और प्रेरणादायी नेतृत्व के लिए सम्मानित करती है जो भारतीय क्रिकेट को नई ऊंचाईयों तक ले गया।” क्रिकेट इतिहास इस बात का गवाह है कि धोनी ने कभी भी बुरे वक्त को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया है और जब भी उन्हें खतरा महसूस हुआ है उन्होंने नया रास्ता अख्तियार कर लिया। धोनी के हाल- फिलहाल में प्रदर्शन की बात करें तो उन्होंने वनडे सीरीज में जहां 134 रनों की पारी खेली तो टी20I सीरीज में 36 गेंदो में 56 रन जमाकर सबको स्तब्ध कर दिया। जाहिर है कि धोनी आजकल अच्छे टच में हैं। लेकिन क्या वह आईसीसी विश्व कप 2019 तक खेलने को तैयार हैं? ये भी पढ़ें: विराट कोहली ने पत्रकारों को महेंद्र सिंह धोनी के अंदाज में दिया जवाब

इसके पहले धोनी को लिटमस टेस्ट पास करना होगा और वह है आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में प्रदर्शन का। कई क्रिकेट पंडित इस बात पर कयास लगा रहे हैं कि चैंपियंस ट्रॉफी धोनी समेत कई वरिष्ठ खिलाड़ियों के लिए अंतिम सीरीज साबित हो सकती है। गौर करने वाली बात है कि टीम इंडिया को जुलाई 2017 के पहले अन्य टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेलना है और यही कारण है कि बैंगलुरू टी20I को धोनी के करियर का अंतिम टी20I बताया जा रहा है। वहीं, अगर धोनी चैंपियंस ट्रॉफी में कुछ खास प्रदर्शन करने में कामयाब नहीं होते तो वह जाहिर तौर पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर सकते हैं। ध्यान देने वाली बात ये भी है कि धोनी का बैक-अप भी टीम इंडिया में मौजूद है और वह है रिषभ पंत जिसके चैंपियंस ट्रॉफी में अंतिम 16 में चुने जाने की संभावनाएं हैं।