Ishant Sharma: Perceptions have played a role in my exclusion from one day set-up
Ishant Sharma @IANS (FILE IMAGE)

भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने शनिवार को कहा कि वनडे टीम में उनकी जगह इसलिए नहीं बन पा रही है क्योंकि भारतीय क्रिकेट में यह राय बन गई है कि वह टेस्ट मैचों के गेंदबाज हैं।

पढ़ें:  ‘माही भाई ने कई बार मुश्किल समय में मेरी मदद की’

इशांत ने करियर में 80 वनडे इंटरनेशनल मैच खेले हैं जिसमें आखिरी बार वह वनडे में तीन साल पहले दिखे थे। 30 साल के इस गेंदबाज ने अब तक 90 टेस्ट में देश का प्रतिनिधित्व किया है और उन्हें खुद को टेस्ट विशेषज्ञ पर देखा जाना पसंद नहीं।

आईपीएल टीम दिल्ली कैपिटल्स के मीडिया सत्र के दौरान इशांत ने कहा, ‘हां, मैं मानता हूं कि भारतीय क्रिकेट में ऐसे विचारों के कारण मैं सीमित ओवर की टीम में नहीं हूं। मुझे नहीं पता कि ऐसे विचार कहां से आते हैं।’

पढ़ें: अनुशासहीनता की अटकलबाजियों पर पृथ्वी शॉ बोले- ये सब अफवाहें हैं

लिस्ट ए क्रिकेट में चेतेश्वर पुजारा का औसत भी 50 से अधिक का है लेकन उन पर भी टेस्ट विशेषज्ञ का ठप्पा लगा है और इशांत खुद को सौराष्ट्र के इस बल्लेबाज से  जोड़कर देखते हैं।

दिल्ली के इस तेज गेंदबाज ने कहा, ‘ईमानदारी से कहूं तो यह कुछ ऐसा है जिससे खिलाड़ियों को जूझना पड़ रहा है लेकिन मुझे नहीं पता ऐसी राय कहां से बनती  है। इससे हम पर ठप्पा लग जाता है, ‘यह टेस्ट गेंदबाज है’, यह टी20 गेंदबाज है’, ‘लाल गेंद का गेंदबाज’, ‘सफेद गेंद का गेंदबाज’ और भी बहुत कुछ।’

टेस्ट मैचों में 267 विकेट लेने वाले इस गेंदबाज ने कहा कि अगर कोई लाल गेंद से अच्छी गेंदबाजी कर सकता है तो वह किसी भी प्रारूप में खेल सकता है।’