Ishant Sharma, Ravindra Jadeja engage in an on-field fight during 2nd Test at Perth
Ishant Sharma, Ravindra Jadeja (Twitter)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे क्रिकेट टेस्ट के चौथे दिन भारत के ईशांत शर्मा और रविंद्र जडेजा में तीखी बहस हो गई। तेज गेंदबाज ईशांत और स्पिनर जडेजा के बीच बहस इतनी ज्यादा बढ़ गई कि मोहम्मद शमी समेत दो साथी खिलाड़ियों को उन्हें अलग करना पड़ा।

पर्थ टेस्ट में स्लेजिंग की सीमा नहीं पार की गई: विराट कोहली

ये घटना सामने तब आई जब ईशांत ने जडेजा से कहा, “मुझ पर अपना हाथ मत बढ़ाओ। अगर आप कुछ चाहते हैं, तो मेरे पास आओ और कहो।”

जडेजा ने जवाब दिया: “तुम इतना क्यों कह रहे हो?

इशांत ने जवाब दिया: “मुझ पर अपना हाथ मत बढ़ाओ। मुझ पर अपना गुस्सा मत निकालों।” जिसके बाद इशांत ने जडेजा को अपशब्द कहे।

जडेजा का अगला जवाब स्टंप माइक में सुनाई नहीं दिया, लेकिन ईशांत ने कहा: “मुझे भी मत कहो। बकवास मत बोलो। ”

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने कमेंट्री के दौरान कहा, ‘‘कुछ तो चल रहा है। बार बार ऊंगली उठ रही थी। उन्हें दो मौकों पर अलग किया गया।’’

ईशांत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज पर पहले दोनों टेस्ट मैच में खेले हैं जबकि जडेजा को अब तक ऑस्ट्रेलिया दौरे पर एक भी मौका नहीं मिला है। पर्थ टेस्ट में जडेजा सिर्फ ड्रिंक्स ड्यूटी पर थे और भारत की फील्डिंग के दौरान सब्स्टीट्यूट के तौर पर आए थे। इसी दौरान दोनों गेंदबाजों में किसी बात को लेकर बहस हो गई।

टिम पेन : अगर भारत ने स्‍लेजिंग की तो हम हाथ पर हाथ धरे बैठे नहीं रहेंगे

पर्थ टेस्ट में भारत ने चार तेज गेंदबाजों को उतारा था और जडेजा टीम से बाहर थे। भारतीय टीम ने रविचंद्रन अश्विन के चोटिल होने के बावजूद दूसरे स्पिन गेंदबाज जडेजा को मौका नहीं दिया। बल्कि पार्ट टाइम स्पिनर हनुमा विहारी को प्लेइंग इलेवन में शामिल कर लिया गया।