जो रूट © Getty Images
जो रूट © Getty Images

मध्य क्रम के बल्लेबाज जो रूट को इंग्लैंड का नया कप्तान नियुक्त किया गया है। द टेलीग्राफ अखबार के हवाले से कप्तानी की जिम्मेदारी लेने के बाद इंग्लिश बोर्ड के डॉयरेक्टर एंड्रयू स्ट्रॉस से बातचीत में उन्होंने इसका जिक्र किया। एलिस्टेयर कुक के कप्तानी से इस्तीफा देने के बाद 26 वर्षीय रूट इंग्लैंड टीम के 80वें टेस्ट कप्तान होंगे। कुक ने इसी साल फरवरी की शुरुआत में इंग्लैड टीम की कप्तानी से इस्तीफ दे दिया था। रूट ने साल 2012 में इंग्लैंड क्रिकेट में डेब्यू किया था। रूट मौजूदा समय में इंग्लैंड के साथ विश्व के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक हैं। उन्होंने 53 टेस्ट मैचों में 4594 रन बनाए हैं। उनका टेस्ट औसत 53 का है। रूट के साथ ऑलराउंडर बेन स्टोक्स को उप-कप्तान बनाया गया है।

भारत दौरे पर मिली करारी हार के बाद कुक ने कप्तानी छोड़ने का फैसला कर लिया। भारत के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड टीम को 0-4 से हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद से ही रूट पर दवाब बढ़ रहा था। उन्होंने इस फैसले से पहले काफी अच्छी तरह से सोच विचार किया और आखिरकार उन्हें लगा कि यह सही समय है युवा खिलाड़ी को टीम का बागदौड़ सौंपने का। सीमित ओवरों में इंग्लैंड टीम की कप्तानी इयॉन मॉर्गन करते हैं। हालांकि कुक के हटते ही कप्तानी के लिए रूट के नाम की चर्चा जोरों पर थी लेकिन सभी को औपचारिक घोषणा का इंतजार था। रूट साल 2015 के कुक की कप्तानी में उप-कप्तान की जिम्मेदारी निभा रहे हैं और उनके पास काफी अनुभव है इस पद को संभालने के लिए। भारत से लौटी इंग्लैंड टीम को अब तीन वनडे मैचों की सीरीज के लिए वेस्टइंडीज का दौरा करना है। इसके बाद इंग्लैंड विश्व क्रिकेट की बाकी शीर्ष टीमों के साथ एक जून के शूरू हो रही आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी में हिस्सा लेगी। रूट को कप्तानी करने के लिए जुलाई में साउथ अफ्रीका के इंग्लैंड दौरे पर खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज का इंतजार करना होगा। ये भी पढ़ें: भारत बनाम बांग्लादेश हैदराबाद टेस्ट मैच की हाईलाइट्स

कुक की कप्तानी में इंग्लैंड ने दो बार ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ प्रतिष्ठित एशेज ट्रॉफी जीती है। कुक ने बतौर कप्तान साल 2012-13 में भारत दौरे पर अपनी पहली टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड को जीत दिलाई थी। साल 1984-85 के बाद यह भारत में इंग्लैंड की पहली सीरीज जीत थी।