Joe Root: Lord’s pitch was not even close to a fair contest between bat and ball
जो रूट (Twitter)

आयरलैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में खेले गए एकमात्र टेस्ट में इंग्लैंड टीम ने भले ही जीत हासिल कर ली हो लेकिन कप्तान जो रूट पिच को लेकर काफी नाखुश हैं। इंग्लिश कप्तान चाहते हैं कि एशेज सीरीज के दौरान इस तरह की पिच ना हो।

लॉर्ड्स टेस्ट में गेंदबाजों का बोलबाला रहा। पहली पारी में इंग्लैंड टीम केवल 85 रन के स्कोर पर ऑलआउट हो गई थी। मैच के बाद जब रूट से पूछा गया कि क्या वो एशेज के दौरान इस तरह की चीज दोबारा होते देखना चाहेंगे तो उन्होंने कहा, “हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा कि ये (पिच) ऐसी ही रहती है या नहीं। मुझे नहीं लगता है कि ऐसा होगा।”

इंग्लिश कप्तान ने आगे कहा, “इंग्लैंड के खेलने समय आपको कई अलग चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। बाकी जगहों के मुकाबले यहां ज्यादा हरकत होती है, हवा की वजह से, सतह की वजह से, खासकर कि पहली पारी में। आपको इससे निपटने का तरीका ढूंढना होता है। इस मैच में ये बहुत ज्यादा था।”

आयरलैंड को 38 रन पर ढेर कर इंग्‍लैंड ने 143 रन से जीता लॉर्ड्स टेस्‍ट

अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे जेसन रॉय और टेस्ट टीम में जगह पक्की करने की कोशिश में लगे रोरी बर्न्स और जो डेनली वाले इंग्लैंड के शीर्ष क्रम की कमजोरी इस मैच में साफ दिखी। हालांकि रूट को यकीन है कि एशेज सीरीज में यही परस्थितियां नहीं होंगी लेकिन कप्तान भी इस प्रदर्शन से निराश हैं।

उन्होंने कहा, “बल्लेबाजी के नजरिए से, इस तरह की सतह पर खेलना मुश्किल है। एशेज में हम जिस पेस अटैक के खिलाफ खेलेंगे, ये अटैक उससे अलग था। ये निराशाजनक है कि ऐसा (एशेज से) ठीक पहले हुए लेकिन मुझे लगता है ये अलग हालात हैं।”

एहसास हो गया था कि मेरा समय समाप्त हो गया है: लसिथ मलिंगा

रूट ने आगे कहा, “ऐसे समय होते हैं जब हम कुछ निश्चित समय को बेहतर तरीके से मैनेज कर सकते हैं। शायद हम गति में फंत जाते हैं। पहली पारी में, हम धीमे थे। हमने उस तरह से नहीं खेला, जैसे हम आमतौर पर खेलते हैं। हम खुलकर नहीं खेल रहे थे। हम डिफेंसिव होकर खेल रहे थे। परेशानी डिफेंसिव होने में नहीं है, दिक्कत हमारे डिफेंड करने की तरीके में थी।”