हितों के टकराव का आरोप झेल रहे पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) को लेकर विनोद राय के नेतृत्व वाली प्रशासकों की समिति (सीओए) के रूख की आलोचना करते हुए कहा कि उनके बीच संवाद की कमी है।

लक्ष्मण ने कहा कि सीओए ने पहले सीएसी के लिए व्यापक भूमिका का वादा किया था लेकिन वह इसका इस्तेमाल सिर्फ सीनियर राष्ट्रीय टीम के कोच के चयन के लिए करते हैं। मैदान में शांत रहने वाले लक्ष्मण ने बीसीसीआई के लोकपाल को ‘हितों के टकराव’ के मुद्दे पर कड़ी प्रतिक्रिया दी और कहा कि अगर टकराव की बात आती है तो मैं उसका ‘विरोध’ करने के लिए तैयार हूं।

देखें :- आईपीएल 2019 प्‍वाइंट्स टैबल

लक्ष्मण ने अपने वकील के जरिये दायर किये गये हलफनामे में लिखा, ‘‘हमने सात दिसंबर 2018 को प्रशासकों की समिति से अपनी भूमिका और जिम्मेदारियों के दायरे को स्पष्ट करने को कहा था, लेकिन हमें आज तक कोई जवाब नहीं मिला। हमें 2015 में इससे संबंधित पत्र मिला था लेकिन इस पर कार्यकाल के समय का जिक्र नहीं है, ऐसे में यह अपेक्षा करना उचित है कि सीओए से कोई जवाब मिले कि सीएसी अस्तित्व में है या नहीं। दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हो रहा है।’’

जानिए, कौन हैं पंजाब के लिए IPL डेब्यू करने वाले युवा प्रभसिमरन सिंह

इस मामले में लक्ष्मण के अलावा सचिन तेंदुलकर ने भी बीसीसीआई के लोकपाल को अपना जवाब भेज दिया। तेंदुलकर और लक्ष्मण को मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ (एमपीसीए) के सदस्य संजीव गुप्ता द्वारा दायर की गई शिकायत पर नोटिस भेजा गया था। शिकायत के मुताबिक लक्ष्मण और तेंदुलकर ने आईपीएल फ्रेंचाइजी टीमों क्रमश: हैदराबाद और मुंबई के ‘‘सहायक सदस्य’’ और बीसीसीआई के क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) के सदस्य के रूप में दोहरी भूमिका निभाई, जिसे कथित हितों के टकराव का मामला बताया गया था।

पढ़ें:- आंद्रे रसेल बने IPL के एक सीजन में छक्‍कों का अर्धशतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी

लक्ष्मण ने अपने जवाब में लिखा, ‘‘हमें ऐसी जानकारी मिली थी कि हम भारतीय क्रिकेट के सतत विकास में योगदान देंगे इसलिए मैंने सीएसी का सदस्य बनने के लिए हामी भरी थी।’’ उन्होंने अपने शपथ पत्र में कहा, ‘‘ संन्यास के बाद भारतीय क्रिकेट को सुपर पावर बनाने में योगदान देना का मौका मिलना ही मेरे लिए इतना विशेष था कि मैं इसके लिए मेहनताना लेने से मना कर सकता था।’’

पढ़ें:- पोंटिंग और दादा को पता है कैसे मैच विनर बनाते हैं: शिखर धवन

लक्ष्मण ने दावा किया कि सीओए ने तीन सदस्यीय सीएसी (जिसके तीसरे सदस्य सौरव गांगुली हैं) को महिला टीम का मुख्य कोच चुनने के लिए काफी कम समय दिया। उन्होंने कहा, ‘‘ दिसंबर 2018 में महिला टीम के कोच को चुनने के लिए हमें अपनी उपलब्धिता बताने के लिए 24 घंटे से भी कम समय दिया गया। पूर्व प्रतिबद्धताओं और कम समय के कारण हम तीनों ने इसमें शामिल होने से मना कर दिया।

इसके बाद कपिल देव, शांता रंगास्वामी और अंशुमान गायकवाड़ की तदर्थ समिति ने भारतीय महिला टीम के मुख्य कोच के रूप में डब्ल्यूवी रमन का चयन किया था।