Asian Cricket Council Emerging Teams Cup, Final: Kamindu Mendis’s fifty lead Sri Lanka to 270/7
jayant yadav © AFP (file image)

श्रीलंका ने शनिवार को खेले गए इमर्जिंग एशिया कप टूर्नामेंट के फाइनल में भारत को कड़े मुकाबले में तीन रन से हरा दिया।

मेजबान श्रीलंका ने भारत के सामने 271 रनों का लक्ष्य रखा था। भारत की युवा टीम पूरे 50 ओवर खेलने के बाद सात विकेट खोकर 267 रन ही बना सकी।

पढ़ें: ऑस्‍ट्रेलियाई बल्‍लेबाज ख्‍वाजा बोले- पर्थ टेस्‍ट में हमारी पकड़ अब भी है मजबूत

लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम अच्छी शुरुआत नहीं कर सकी। वह लगातार विकेट खोती रही। टीम का ऊपरी क्रम और मध्यक्रम पूरी तरह से नाकाम रहा। अंत में कप्तान जयंत यादव (71), शम्स मुलानी (46) ने टीम को जीत की राह पर बनाए रखा, लेकिन 234 के कुल स्कोर पर जयंत और एक रन बाद मुलानी के आउट होने के बाद टीम फिर संकट में आ गई।

जयंत ने 85 गेंदों की पारी में पांच चौके लगाए वहीं मुलानी ने 44 गेंदों पर पांच चौके जड़े।

इन दोनों के जाने के बाद अतित सेठ (नाबाद 28) ने टीम को जीत दिलाने की कोशिश की लेकिन सफल नहीं हो सके।

इससे पहले, लगातार शानदार फॉर्म में चल रहे कामिन्डू मेंडिस की अर्धशतकीय पारी के दम पर श्रीलंका ने 270/7 का स्कोर बनाया। मेंडिस ने 55 गेंदो पर 4 चौकों और एक छक्के की मदद से 61 रनों की पारी खेली।

चार दिवसीय टेस्ट फॉर्मेट को लेकर खुले दिमाग से सोचे: केविन रॉबर्ट्स

मेंडिस के अलावा सलामी बल्लेबाज हसिथ बोयागोडा ने भी 62 गेंदो पर 54 रनों की अर्धशतकीय पारी खेली। जिसके दम पर श्रीलंका ने 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 270 रन बनाए और भारत के सामने जीत के लिए 271 रनों का लक्ष्य रखा। भारत की ओर से अंकित राजपूत ने सबसे ज्यादा 2 विकेट लिए।

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी श्रीलंका टीम ने पहले ही ओवर में सलामी बल्लेबाज साडुन विराकोडी (4) का विकेट खो दिया। अंकित राजपूत ने पहले ओवर की पांचवीं गेंद पर साडुन को बोल्ड किया। पहला विकेट जल्दी गिरने के बाद बोयागोडा ने अविष्का फर्नांडो के साथ मिलकर दूसरे विकेट के लिए 82 रन जोड़े।

‘पर्थ के नए स्टेडियम में प्रतिष्ठित बॉक्सिंग डे टेस्ट रखने की कोई चर्चा नहीं’

19वें ओवर में मयंक मारकंडे ने अर्धशतक बना चुके बोयगोडा को आउट किया। दूसरा विकेट गिरने के बाद फर्नांडो और शेहान जयसूर्या के बीच एक छोटी साझेदारी बनी। 23वें ओवर में शम्स मुलानी की गेंद पर फर्नांडो के आउट होने के बाद कप्तान शम्मु आशान ने जयसूर्या के साथ मिलकर पारी को संभाला। आशान केवल 20 रन बनाकर 32वें ओवर में नितीश राणा के शिकार बने।

41वें ओवर में जयसूर्या (46) भी जयंत यादव की गेंद पर आउट होकर अर्धशतक से चूक गए। 195 पर पांच विकेट गिरने के बाद मेंडिस ने पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ पारी को आगे बढ़ाया और टीम को 267 के स्कोर तक पहुंचाकर आखिर ओवर की तीसरी गेंद पर आउट हुए।