D’arcy Short: Committed to prove myself in Test format
डार्सी शॉर्ट (Twitter)

ऑस्ट्रेलिया के सीमित ओवरों के विशेषज्ञ डॉर्सी शार्ट ने कहा कि छोटे फॉर्मेट के स्पेशलिस्ट का तमगा उन्हें परेशान नहीं करता और वो प्रथम श्रेणी और टेस्ट क्रिकेट में खुद को साबित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से अब तक आठ वनडे और 20 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले इस 29 साल बल्लेबाज ने कहा कि अच्छा प्रदर्शन करने के दबाव से वो प्रभावित हुए क्योंकि वो अवसरों का लाभ उठाने में नाकाम रहे।

क्रिकेट.कॉम.एयू से उन्होंने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि ये गलत नजरिया है। लोग वही सोचते हैं जो देखते हैं। मैं लाल गेंद की क्रिकेट में भी अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रतिबद्ध हूं। मैंने अब तक अवसरों का वैसा लाभ नहीं उठाया जैसा मुझे उठाना चाहिए था।’’

शार्ट ने कहा, ‘‘अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव और अपना स्थान बरकरार रखने की बात मेरे दिमाग में घूमती रही। मैं जानता हूं कि मैं ऐसा कर सकता हूं ये केवल खेल को उसके अनुरूप खेलने से जुड़ा है।’’

इंग्लैंड के महानतम क्रिकेटरों में से एक बनेगा बेन स्टोक्स : डॉमिनिक कॉर्क

शार्ट ने पश्चिम ऑस्ट्रेलिया की तरफ से पिछले चार सालों में केवल 14 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं जिनमें उनका औसत 26 से थोड़ा अधिक है लेकिन उनका मानना है कि न्यू साउथ वेल्स के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष आक्रमण के सामने पारी का आगाज करते हुए अर्धशतक बनाने से उनका आत्मविश्वास बढ़ा है।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि पिछले साल मैंने कुछ हद तक साबित किया। न्यू साउथ वेल्स के खिलाफ के मैंने टेस्ट मैचों में खेलने वाले गेंदबाजों के सामने पारी की शुरुआत की, अर्धशतक बनाया और पर्याप्त समय (164 गेंदे) क्रीज पर बिताया। इससे मेरा थोड़ा आत्मविश्वास बढ़ा है। मुझे जब भी मौका मिलता है तब बड़ा स्कोर बनाना होगा।’’