श्रीसंत पर फिक्सिंग के आरोप लगने के बाद बीसीसीआई ने उन्हें आजीवन प्रतिबंधित कर दिया था। © PTI
श्रीसंत पर फिक्सिंग के आरोप लगने के बाद बीसीसीआई ने उनपर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था। © PTI

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज श्रीसंत क्रिकेट की एक नई पारी शुरु करने जा रहे हैं। फिक्सिंग में नाम आने के बाद बीसीसीआई द्वारा आजीवन प्रतिबंध का सामना कर रहे श्रीसंत अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट नहीं बल्कि क्लब क्रिकेट खेलने जा रहे हैं। श्रीसंत जल्द ही स्कॉटिश क्लब ग्लेनोर्थस क्रिकेट क्लब का हिस्सा बनने जा रहे हैं। फिलहाल वह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से अनुमति मिलने के इंतजार में हैं। इस बारे में एक प्रतिष्ठित अखबार से बात करते हुए उन्होंने कहा, “मैने बीसीसीआई को इस बारे में चिट्ठी लिख दी है। मुझे जवाब का इंतजार है, स्कॉटिश क्लब का बीसीसीआई या आईसीसी से कोई लेना देना नहीं है।” ये भी पढ़ें:रणजी ट्रॉफी फाइनल मैच के तीसरे दिन का लाइव ब्लॉग

श्रीसंत से जब पूछा गया कि क्या वह भारतीय बोर्ड से अनुमति क्यों ले रहे हैं तो उन्होंने जवाब दिया कि, “न्यायालय ने मुझे सभी आरोपों से मुक्त कर दिया है। मुझे आखिर क्यों बीसीसीआई की अनुमति चाहिए? क्योंकि मैं आज जो कुछ भी हूं बीसीसीआई के कारण ही हूं।” उन्होंने क्लब के बारे में बात करते हुए कहा, “मैने स्कॉटिश क्लब के साथ कॉन्ट्रेक्ट साइन कर लिया है। सारी आधिकारिक प्रक्रिया हो चुकी हैं, यह लीग अप्रैल से शुरु हो रही है। साथ ही मैं यह भी नहीं चाहता कि कोई मेरे लिए परेशानी खड़ी करे, मैं पहले ही बहुत कुछ सह चुका हूं।” साल 2013 में आईपीएल सत्र के दौरान श्रीसंत, अंकित छावन ने पोलिस के सामने स्पॉट फिक्सिंग की बात कबूली थी। इन दो खिलाड़ियों के साथ अजीत चंडीला को भी गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद बीसीसीआई द्वारा तीनों खिलाड़ियों पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया। हालांकि दिल्ली कोर्ट ने तीनों को 2015 में आरोप मुक्त कर दिया था लेकिन बोर्ड ने उनपर से बैन नहीं हटाया। ये भी पढ़ें:”विराट कोहली पर बढ़ जाएगा दबाव”: कपिल देव

क्रिकेट से अलग होने के बाद श्रीसंत ने कई क्षेत्रों में हाथ आजमाए। उन्होंने कई फिल्मों में काम किया और पिछले आम चुनावों में बीजेपी के टिकट पर चुनाव भी लड़ा लेकिन वह हार गए। इस बारे में श्रीसंत ने साफ कहा, “जिन खिलाड़ियों पर आरोप साबित हुआ था वह देश के लिए खेल रहे हैं और मैं घर बैठा हूं। फिल्म और राजनीति अलग चीजें हैं लेकिन मैं एक खिलाड़ी हूं और खेलना चाहता हूं।”