लगातार पांच हार झेलकर आईपीएल के 12वें संस्करण से बाहर होने के कगार पर खड़ी कोलकाता गुरुवार को ईडन गार्डन्स पर राजस्थान के साथ होने वाले मैच में हर हाल में जीत दर्ज करना चाहेगी। टूर्नामेंट में उम्मीदों को जिंदा रखने के लिए दोनों ही टीमों के लिए यह मैच बेहद अहम है।

दो बार की चैम्पियन कोलकाता ने शानदार तरीके से सीजन की शुरुआत की थी लेकिन लीग के बीच में आकर वह जीत की पटरी से उतर चुकी है। टीम इस समय 10 मैचों में चार जीत और छह हार के साथ अंकतालिका में छठे नंबर पर है। कोलकाता को प्लेऑफ में पहुंचने के लिए अब अपने सभी चारों मैच जीतने होंगे।

पढ़ें:- हार के बाद अश्विन बोले- पावर प्‍ले में गेंदबाजी में सुधार की जरूरत

टीम के लिए चिंता की बात यह है कि कप्तान दिनेश कार्तिक की नेतृत्व क्षमता सवालों के घेरे में है और उनके बल्ले से रन भी नहीं निकल पा रहा है। कार्तिक ने लीग के 10 मैचों में अबतक केवल 117 रन ही बनाए हैं। विश्व कप के लिए 15 सदस्यीय भारतीय टीम में शामिल किए गए कार्तिक का फॉर्म में लौटना न सिर्फ कोलकाता के लिए बल्कि भारतीय टीम के लिए भी अच्छा होगा।

कोलकाता की टीम ज्यादातर कैरेबियाई विस्फोटक बल्लेबाज आंद्रे रसेल पर ही टिकी हुई दिखाई दे रही है, जिन्होंने अबतक 10 मैचों में 392 रन बनाए हैं। गेंदबाजी में सर्वाधिक विकेट लेने वालों की सूची में कोलकाता का कोई भी गेंदबाज टॉप-10 में शामिल नहीं है। दूसरी तरफ, राजस्थान के लिए भी अब यह टूर्नामेंट करो या मरो वाला हो गया है। टीम को प्लेऑफ की उम्मीदों को जिंदा रखने के लिए अब अपने बाकी बचे सभी मैच जीतने होंगे।

पढ़ें:-लगातार छह हार ने टीम को काफी चोट पहुंचाई थी – विराट कोहली

राजस्थान इस समय 10 मैचों में तीन जीत और सात हार के साथ सातवें नंबर पर है। टीम प्रबंधन ने अपने पिछले मैच से पहले अजिंक्य रहाणे को कप्तानी से हटाकर स्टीवन स्मिथ को कप्तान बनाया है। उनकी कप्तानी में टीम ने एक मैच जीता लेकिन फिर से दिल्ली से साथ हुए मैच में टीम जीत की पटरी से उतर गई। हालांकि कप्तानी का बोझ हटने के बाद रहाणे ने अच्छा प्रदर्शन किया है और उन्होंने पिछले मैच में दिल्ली के खिलाफ नाबाद 105 रन की पारी खेली थी। टीम चाहेगी कि रहाणे इसी फॉर्म को आगे भी बरकरार रखें।