ICC CRICKET WORLD CUP 2019: Eying on MS Dhoni’s approach as India take on depleted West Indies
Virat, Bumrah and Rohit @bcci

भारतीय क्रिकेट टीम विश्व कप के अपने छठे लीग मैच में गुरुवार को जब सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी वेस्टइंडीज की खतरनाक टीम से भिड़ेगी तो टीम प्रबंधन की मुख्य चिंता महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाजी और उनका बल्लेबाजी क्रम होगी।

पढ़ें: स्टार्क के साथ प्लेइंग इलेवन में क्यों नहीं हो सकता

लीग चरण अपने अंत की ओर बढ़ रहा है और ऐसे में भारत एक और जीत के साथ सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की करना चाहेगा।

लेकिन यह कहना जितना आसान है उसे करना उतना आसान नहीं होगा। वेस्टइंडीज की टीम के पास गंवाने के लिए कुछ नहीं है और वे बाकी मैचों में अन्य टीमों का समीकरण बिगाड़ने की कोशिश करेगी।

दूसरे पावर प्ले के महत्वपूर्ण ओवरों में पूर्व कप्तान धोनी की विफलता ने कप्तान विराट कोहली की चिंता थोड़ी बढ़ाई है।

धोनी ने अफगानिस्तान के खिलाफ बेहद धीमी बल्लेबाजी करते हुए 52 गेंद में 28 रन बनाए और इसके लिए उन्हें काफी आलोचना का सामना भी करना पड़ा। यहां तक कि आम तौर पर शांत रहने वाले सचिन तेंदुलकर ने भी उनके रवैये पर सवाल उठाए थे।

पढ़ें: सरफराज की फैंस से अपील- आलोचना करो पर दुर्व्यवहार मत करो

सचिन तेंदुलकर ने टीवी चैनल पर कहा, ‘कोई सकारात्मक रवैया नजर नहीं आता।’ टीम प्रबंधन भी इस समस्या से वाकिफ है लेकिन अब जब चार लीग मैच बचे हैं तब उनके पास एकमात्र विकल्प धोनी के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव करना है। संभवत: इससे केदार जाधव को अधिक गेंद खेलने को मिल सकता है जो अपने शॉट चयन में नयापन लाने के लिए पहचाने जाते हैं।

हार्दिक पांड्या का इस्तेमाल अब तक फ्लोटर के रूप में हुआ है लेकिन अफगानिस्तान के खिलाफ मैच ने दिखाया कि अगर उन्हें दूसरे छोर से सहयोग नहीं मिलता है तो फिर उन पर काफी दबाव आ जाता है।

शास्‍त्री और कोहली पंत का इस्‍तेमाल करने को लेकर उत्‍सुक नहीं

विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री अब तक रिषभ पंत का इस्तेमाल करने को लेकर काफी उत्सुक नजर नहीं आए हैं। टीम प्रबंधन अगर विजय शंकर को बाहर करने का फैसला करता है तो ही पंत को टीम में जगह मिल सकती है।

स्पिन के खिलाफ असहज महसूस कर रहे हैं धोनी

वेस्टइंडीज की टीम में काफी तेज गेंदबाज हैं और ऐसे में धोनी को स्ट्राइक रोटेट करने में आसानी हो सकती है क्योंकि वह धीमे गेंदबाजों के खिलाफ सहज होकर नहीं खेल पा रहे हैं। पिछले मैच में अफगानिस्तान के धीमे गेंदबाजों ने इसका काफी फायदा उठाया था।

आईपीएल में धोनी की बल्लेबाजी और भारत के लिए 50 ओवर के प्रारूप में उनके प्रदर्शन में अंतर को लेकर काफी बहस हो रही है। चेन्नई सुपरकिंग्स की ओर से खेलते हुए धोनी ने भारत के एक अनुभवहीन घरेलू गेंदबाज को निशाना बनाया जबकि बड़े अंतरराष्ट्रीय नामों के खिलाफ सुरक्षित क्रिकेट खेला।

लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा करने के दौरान उन्होंने कगीसो रबाडा या जोफ्रा आर्चर जैसे गेंदबाजों के खिलाफ कोई जोखिम नहीं उठाया जबकि अन्य गेंदबाजों के खिलाफ रन जुटाए। टीम को धोनी की रणनीति और तेजतर्रार विकेटकीपिंग की जरूरत है और ऐसे में कप्तान और कोच को उनकी भूमिका पर काफी माथापच्ची करनी होगी।

टूर्नामेंट का सकारात्‍मक अंत करना चाहेगी विंडीज

दूसरी तरफ पाकिस्तान के खिलाफ शानदार शुरुआत के बावजूद वेस्टइंडीज की टीम विश्व कप में सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी है लेकिन टीम टूर्नामेंट का सकारात्मक अंत करना चाहेगी।

रसेल के बाहर होने से विंडीज को तगड़ा झटका

आंद्रे रसेल पैर की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण बाहर हो गए हैं और इससे टीम को बड़ा झटका लगा है। टीम के तेज गेंदबाजी विभाग ने हालांकि बेहतरीन क्षमता दिखाई है। शेल्डन कोट्रेल और ओशेन थॉमस की युवा तेज गेंदबाजी जोड़ी ने काफी प्रभावित किया है।

कोहली और रोहित शानदार फॉर्म में

कोहली और उप कप्तान रोहित शर्मा काफी अच्छी फॉर्म में हैं और ऐसे में भारतीय बल्लेबाजों और वेस्टइंडीज के गेंदबाजों के बीच अच्छा संघर्ष देखने को मिल सकता है।

गेल से विंडीज को बड़ी पारी का इंतजार

‘यूनिवर्सल बॉस’ क्रिस गेल से अब भी बड़ी पारी का इंतजार है और कोहली उम्मीद कर रहे होंगे कि कल होने वाले मैच में ऐसा नहीं होगा।

गेल के खिलाफ जसप्रीत बुमराह का शुरुआती स्पैल मैच की रूपरेखा तैयार कर सकता है जबकि वेस्टइंडीज के मध्यक्रम को कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की चुनौती का सामना करना होगा।

न्यूजीलैंड के खिलाफ कार्लोस ब्रेथवेट ने शानदार पारी खेली और वेस्टइंडीज को जीत की दहलीज पर ले गए थे। ब्रेथवेट हालांकि धीमे गेंदबाजों के खिलाफ सहज नजर नहीं आते। कुल मिलाकर भारत की राह आसान नहीं होगी लेकिन इसके बावजूद हाल के प्रदर्शन को देखते हुए टीम जीत की प्रबल दावेदार है।

संभावित टीमें

भारत:

विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, विजय शंकर, हार्दिक पांड्या, महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार, रविंद्र जडेजा, दिनेश कार्तिक और रिषभ पंत।

वेस्टइंडीज:

जेसन होल्डर (कप्तान), क्रिस गेल, शाई होप, शिमरोन हेटमेयर, कार्लोस ब्रेथवेट, शेल्डन कोट्रेल, ओशाने थॉमस, केमार रोच, एश्ले नर्स, निकोलस पूरन, सुनील अंब्रीश, इविन लुइस, शैनन गैब्रिएल, डेरेन ब्रावो और फैबियन एलेन।