ICC WORLD CUP 2019: Teams with strongest death bowling lineups
Bumrah, Starc, Hasan Ali, Rabada

इंग्‍लैंड में 30 मई से शुरू होने वाले क्रिकेट के महाकुंभ यानी वनडे विश्‍व कप में ढेरों रन बनने वाले हैं। पूरे विश्‍व में वनडे में 300 रन तो मानो आदर्श बन गया है। इंग्‍लैंड की पिचें अब बल्‍लेबाजों की मुफीद हो गई हैं। पिछले कुछ वर्षों से यहां बड़े-बड़े स्‍कोर बन रहे हैं।

पढ़ें: मजबूत बल्‍लेबाजी लाइनअप के मामले में भारत से आगे इंग्‍लैंड

ऐसे में गेंदबाज इस विश्‍व कप में अहम भूमिका निभाने वाले हैं। दिग्‍गजों की मानें तो ये गेंदबाजों का विश्‍व कप होगा क्‍योंकि जिस टीम के गेंदबाज अच्‍छी गेंदबाजी करेंगे उस टीम के विश्‍व चैंपियन बनने के मौके अधिक रहेंगे।

इसमें भी डेथ ओवर यानी मैच के अंतिम के 10 ओवर किसी भी टीम के लिए अहम साबित होंगे। बल्‍लेबाज तो रन बनाने से नहीं हिचकिचाएंगे लेकिन यहां गेंदबाजों की डेथ ओवरों में जरूर अग्नि परीक्षा होगी।

पढ़ें: अपने अंतिम वर्ल्‍ड कप को यादगार बनाने उतरेंगे कैप्‍टन ‘कूल’

इससे पहले डेथ ओवरों के गेंदबाजों का रोल इतना अहम नहीं होता था। जसप्रीत बुमराह, मिचेल स्‍टार्क, कगीसो रबाडा और हसन अली जैसे अन्‍य गेंदबाजों की भूमिका इस वर्ल्‍ड कप में अहम रहने वाली है।

इस विश्‍व कप में कौन सी टीम का डेथ ओवरों में गेंदबाजी आक्रमण मजबूत है, आइए डालते हैं शीर्ष 5 टीमों के गेंदबाजों पर नजर जो विश्‍व कप में डेथ ओवर में अहम भूमिका निभा सकते हैं:-

ऑस्‍ट्रेलिया :

पिछले कुछ वर्षों में ऑस्‍ट्रेलिया की टीम ने वनडे क्रिकेट में कुछ खास कमाल नहीं किया है। इसका एक मुख्‍य कारण उनके प्रमुख गेंदबाजों की अनुपस्थिति रही है। अनुभवी तेज गेंदबाज मिचेल स्‍टार्क और पैट कमिंस की पसंद अक्‍सर टेस्‍ट क्रिकेट से आराम करने और सफेद गेंद से क्रिकेट खेलने की रही है।

विश्‍व कप में स्‍टार्क और कमिंस ऑस्‍ट्रेलिया की तेज गेंदबाजी की अगुवाई करेंगे। कुछ साल पहले स्‍टार्क डेथ ओवरों में गेंदबाजी के मामले में दुनिया के सर्वश्रेष्‍ठ गेंदबाजों में से थे। उनका यॉर्कर गजब का है। स्‍टार्क चाहेंगे कि वो पिछले प्रदर्शन को वर्ल्‍ड कप में भी दोहराएं।

पढ़ें:  विश्‍व कप में 40 साल के ताहिर सबसे उम्रदराज, मुजीब होंगे सबसे युवा

स्‍टार्क और कमिंस के बाद ऑस्‍ट्रेलिया के पास मार्कस स्‍टोइनिस जैसा बेहतरीन ऑलराउंडर भी है जो डेथ ओवरों में अच्‍छी गेंदबाजी कर सकता है। नेथन कूल्‍टर नाइल भी ऑस्‍ट्रेलिया के पास अच्‍छे विकल्‍प हैं। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि ऑस्‍ट्रेलिया के पास इस विश्‍व कप में डेथ ओवरों में गेंदबाजी का अच्‍छा अटैक है।

दक्षिण अफ्रीका :

इसमें कोई शक नहीं कि दक्षिण अफ्रीकी टीम की गेंदबाजी लाइनअप इस विश्‍व कप में सर्वश्रेष्‍ठ गेंदबाजी अटैक में से एक है। कगीसो, रबाडा, डेल स्‍टेन और लुंगी एंगिडी के रूप में तीन बेहतरीन तेज गेंदबाज दक्षिण अफ्रीकी टीम में हैं।

इसके अलावा प्रोटियाज टीम के पास ऑलराउंडर के रूप में क्रिस मॉरिस बेहतरीन विकल्‍प हैं जो लगातार तेज गति से गेंदबाजी करने का माद्दा रखते हैं। डेथ ओवरों में रबाडा उनमें से एक हैं। रबाडा ने हाल में इंडिया में संपन्‍न इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में इसे दर्शाया भी है। उन्‍होंने आईपीएल में लगातार विकेट निकाले और अपने प्‍लान के मुताबिक गेंदबाजी की।

पढ़ें: इस वर्ल्‍ड कप में आखिरी बार दिखेगा इन महारथियों का खेल

रबाडा के बाद स्‍टेन भी काफी पीछे नहीं हैं। स्‍टेन एक अनुभवी गेंदबाज हैं और उन्‍हें ये बात अच्‍छी तरह से पता है कि उनका काम क्‍या है। अपने छोटे करियर में युवा गेंदबाज एंगिडी ने लिमिटेड ओवर के क्रिकेट में अब तक बेहतरीन प्रदर्शन किया है।

भारत:

भारतीय टीम में ऐसा कम ही समय देखने को मिला है जब दिग्‍गज बल्‍लेबाजों से ज्‍यादा गेंदबाज की बात कर रहे हों। हाल के वर्षों में टीम इंडिया की गेंदबाजी धारदार हुई है जिसकी दुनिया भर में चर्चा हो रही है।

टीम इंडिया में कलाई के स्पिनर्स सहित तेज गेंदबाज भी आजकल छाए हुए हैं। जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्‍वर कुमार और मोहम्‍मद शमी ने दो भारतीय कलाई के स्पिनरों के बीच अपनी जगह बनाई है।

पढ़ें: टीम इंडिया की पेस बैटरी वर्ल्‍ड कप में कहर बरपाने को तैयार

इनमें से दो तेज गेंदबाजों की ही प्‍लेइंग इलेवन में जगह बनाने की उम्‍मीद है। हालांकि इन तीनों के पास गेंदबाजी में अलग-अलग वैरिएशन है। तीनों डेथ ओवरों में भी अच्‍छी गेंदबाजी की कूव्‍वत रखते हैं।

शमी थोड़ा महंगे हो सकते हैं लेकिन उन्‍होंने अपनी गेंदबाजी पर काफी काम किया है। दूसरी तरफ भुवनेश्‍वर हाल के दिनों में थोड़ी लय भटके जरूर हैं लेकिन वो अपने सटीक यॉर्कर और डेथ ओवरों में वैरिएशन से काफी कारगर सा‍बित हो सकते हैं।

जसप्रीत बुमराह विश्‍व क्रिकेट में डेथ ओवरों में सर्वश्रेष्‍ठ गेंदबाजों में से एक हैं। इस समय बहुत कम गेंदबाज हैं जो उनकी निरंतरता और सटीकता से मेल खाते हों।

पाकिस्‍तान :

पाकिस्‍तान की टीम हमेशा से अपने गेंदबाजों के लिए जानी जाती है। पाकिस्‍तान से कई ऐसे बेहतरीन गेंदबाज निकले हैं जिन्‍होंने बड़े स्‍तर पर शानदार गेंदबाजी की है। इसका एक ताजा उदाहरण पाकिस्‍तान का 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी पर कब्‍जा जमाना रहा जब उसके डेथ ओवर के गेंदबाजों ने बेहतरीन गेंदबाजी की थी।

पढ़ें: कुलदीप-चहल कोहली के ‘ब्रह्मास्त्र’, इंग्‍लैंड की सपाट पिचों पर दिखाएंगे कमाल

इस विश्‍व कप में पाकिस्‍तान की पेस अटैक की अगुवाई हसन अली करेंगे। हसन ने 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी में बीच के ओवरों में और डेथ ओवरों में शानदार गेंदबाजी की थी। पाकिस्‍तान हसन से पिछले प्रदर्शन की उम्‍मीद कर रहा होगा। डेथ ओवरों में हसन अच्‍छी भूमिका निभा सकते हैं। उनके साथ युवा तेज गेंदबाज शाहीन आफरीदी होंगे जिन्‍होंने अपने छोटे से इंटरनेशनल करियर में अब तक प्रभावित किया है।

हसन और आफरीदी का साथ देने को पाक टीमें मोहम्‍मद आमिर और वहाब रियाज भी हैं।

इंग्‍लैंड :

पिछले चार साल में इंग्‍लैंड की वनडे टीम में काफी कुछ सुधार हुआ है। इस दौरान इंग्लिश टीम आईसीसी रैंकिंग में नंबर वन बनी और 50 ओवर के क्रिकेट में पावरहाउस बनकर सामने आई है। इसमें उसकी बल्‍लेबाजी का अहम योगदान रहा है।

युवा तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर के इंग्लिश टीम में शामिल होने से उसकी गेंदबाजी को धार मिली है। आर्चर की क्षमता टी-20 लीग में देखने को मिली है कि वो बड़े स्‍तर पर क्‍या कर सकते हैं। क्रिस वोक्‍स, टॉम कर्रन और मार्क वुड के कंधों पर इंग्‍लैंड की तेज गेंदबाजी का जिम्‍मा होगा। यही गेंदबाज डेथ ओवरों में भी अहम भूमिका निभा सकते हैं।